Hindi Newsportal

75वां स्वतंत्रता दिवस आज: लाल किले से PM मोदी का ऐलान- सैनिक स्कूलों में अब लड़कियां भी ले सकेंगी एडमिशन; जानें उनकी भाषण की अन्य प्रमुख बातें

0 532

देश आज स्‍वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के जश्न में डूबा हुआ है। सबसे पहले बात दे इस साल आजादी के इस जश्‍न को ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तौर पर मनाया जा रहा है। इधर 75वीं वर्षगांठ के चलते पूरे देश में आजादी के जश्‍न को मनाने की तैयारी जोर शोर से की गई है। इस खास अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर पर राष्‍ट्रीय ध्‍वज तिरंगा फिराया और राष्‍ट्र को संबोधित भी किया।

15 अगस्त, 2023 तक जारी रहेगा अमृत महोत्सव।

चूकि इस बार देश इस आज़ादी को अमृत महोत्सव के रूप में मना रहा है तो बता दे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आजादी का 75वां वर्ष मनाने के लिए मार्च 2021 में गुजरात के अहमदाबाद के साबरमती आश्रम से ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ शुरू किया था। यह समारोह 15 अगस्त, 2023 तक जारी रहेगा।

आजादी के कार्यक्रम में कोरोना नियमों का ख़ास ख़याल।

कोरोना के मद्देनजर लाल क़िला पर आजादी के कार्यक्रम में इस बार 1,500 मेहमान शामिल हुए। इस कार्यक्रम में कोरोना के नियमों का पालन पर भी ख़ासा गौर किया गया। दूसरी और लाल क़िला के 9 किलोमीटर के दायरे में सुरक्षाबलों की पैनी नजर है।

दूसरी बार हुई पुष्प वर्षा।

प्रधानमंत्री के राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद अमृत फॉर्मेशन में भारतीय वायु सेना के दो एमआई 17 1वी हेलीकॉप्टरों द्वारा कार्यक्रम स्थल पर पुष्प वर्षा की गई। पहले हेलीकॉप्टर के कप्तान विंग कमांडर बलदेव सिंह बिष्ट, वहीं दूसरे हेलीकॉप्टर की कमान विंग कमांडर निखिल मेहरोत्रा ने संभाली। इससे पहले आजादी की 50वीं वर्षगांठ पर भी पुष्प वर्षा की गई थी।

स्वतंत्रता दिवस से पहले राष्ट्रीय राजधानी में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी।

राष्ट्रीय राजधानी में स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद कर दी गई है और हजारों सुरक्षाकर्मी संवेदनशील और महत्वपूर्ण स्थानों पर कड़ी निगरानी रख रहे हैं। दिल्ली की सीमाओं पर भी सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है, जहां हजारों किसान केंद्र के नये कृषि कानूनों के खिलाफ आठ महीने से अधिक समय से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

लाल किले की प्राचीर से एथलीट्स के लिए तालियां बजीं।

आज पीएम के लाल किले से भाषण के दौरान सबसे पहले पीएम ने आह्वाहन किया कि आइए ताली बजाकर ओलंपिक विजेताओं का सम्‍मान बढ़ाएं, देश के युवाओं का गौरव बढ़ाएं। पीएम मोदी ने कहा इन खिलाड़ियों ने देश का गौरव ही नहीं बढ़ाया है बल्कि आने वाले युवाओं के लिए मार्ग दर्शन भी तय किया है।

यहाँ जानें भाषण की अन्य प्रमुख बातें ।

पीएम मोदी ने महापुरुषों को किया नमन, नेहरू का लिया नाम।

लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आजादी के मौके पर सभी देशवासियों को बधाई दी। उन्होंने सुभाषचंद्र से लेकर झांसी की रानी लक्ष्मीबाई तक के सभी वीर शहीदों को नमन किया। अपने संबोधन में पीएम मोदी ने जवाहर लाल नेहरू से लेकर लाल बहादुर शास्त्री का जिक्र किया और कहा कि देश इन सभी महापुरुषों का कर्जदार है और हमेशा याद रखेगा। पीएम मोदी ने कहा कि देश के अनगिनत लोगों ने इस राष्ट्र को बनाया है और आगे बढ़ाया है, उन्हें नमन। भारत ने सदियों तक मातृभूमि और संस्कृति और आजादी के लिए संघर्ष किया है। आजादी की ललक इस देश ने कभी नहीं छोड़ी।

कोरोना योद्धाओं की पीएम मोदी ने की प्रशंसा।

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी में हमारे डॉक्टर, हमारे नर्सेस, हमारे पैरामेडिकल स्टाफ, सफाईकर्मी, वैक्सीन बनाने मे जुटे वैज्ञानिक हों, सेवा में जुटे नागरिक हों, वे सब भी वंदन के अधिकारी हैं। पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान हमारे देश में चल रहा है। उन्होंने कहा कि अगर भारत के पास वैक्सीन नहीं होती तो क्या होता।

ओलंपिक खिलाड़ियों ने युवाओं को प्रेरित किया- पीएम मोदी।

पीएम मोदी ने लाल किले पर मौजूद ओलंपिक खिलाड़ियों के लिए तालियां बजवाकर सम्मान किया। उन्होंने कहा कि इन खिलाड़ियों ने न सिर्फ दिल जीता है, बल्कि युवाओं को प्रेरित भी किया है।

लाल किले से पीएम मोदी ने किया बंटवारे का जिक्र।

बंटवारे का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वह दर्द सीने को छलनी करता है। पीएम मोदी ने कहा कि हम आजादी का जश्न मनाते हैं, लेकिन बंटवारे का दर्द आज भी हिंदुस्तान के सीने को छलनी करता है। यह पिछली शताब्दी की सबसे बड़ी त्रासदी में से एक है। कल ही देश ने भावुक निर्णय लिया है। अब से 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के रूप में याद किया जाएगा।

अगले 25 वर्ष की यात्रा नए भारत के सृजन का अमृतकाल है- मोदी।

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि प्रगति पथ पर बढ़ रहे हमारे देश के सामने, पूरी मानवजाति के सामने कोरोना का यह कालखंड बड़ी चुनौती के रूप में आया है। भारतवासियों ने संयम और धैर्य के साथ इस लड़ाई को लड़ा है। उन्होंने आगे कहा कि हर देश की विकासयात्रा में एक समय ऐसा आता है, जब वो देश खुद को नए सिरे से परिभाषित करता है, खुद को नए संकल्पों के साथ आगे बढ़ाता है। भारत की विकास यात्रा में भी आज वो समय आ गया है। यहां से शुरू होकर अगले 25 वर्ष की यात्रा नए भारत के सृजन का अमृतकाल है। इस अमृतकाल में हमारे संकल्पों की सिद्धि, हमें आजादी के 100 वर्ष तक ले जाएगी।

पीएम मोदी ने दिया नया मंत्र- सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास, इसी श्रद्धा के साथ हम सब जुटे हुए हैं। आज लाल किले से मैं आह्वान कर रहा हूं- सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास और सबका प्रयास हमारे हर लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

अब हमें सैचुरेशन की तरफ जाना है- पीएम मोदी।

पीएम मोदी ने कहा कि अब हमें सैचुरेशन की तरफ जाना है। शत प्रतिशत गांवों में सड़कें हों, शत प्रतिशत परिवारों के पास बैंक अकाउंट हो, शत प्रतिशत लाभार्थियों के पास आयुष्मान भारत का कार्ड हो, शत-प्रतिशत पात्र व्यक्तियों के पास उज्ज्वला योजना का गैस कनेक्शन हो। सरकार अपनी अलग-अलग योजनाओं के तहत जो चावल गरीबों को देती है, उसे फोर्टिफाई करेगी, गरीबों को पोषणयुक्त चावल देगी। राशन की दुकान पर मिलने वाला चावल हो, मिड डे मील में मिलने वाला चावल हो, वर्ष 2024 तक हर योजना के माध्यम से मिलने वाला चावल फोर्टिफाई कर दिया जाएगा।

नॉर्थ ईस्ट में कनेक्टिविटी का नया इतिहास लिखा जा रहा।

21वीं सदी में भारत को नई ऊंचाई पर पहुंचाने के लिए भारत के सामर्थ्य का सही इस्तेमाल, पूरा इस्तेमाल जरूरी है। इसके लिए जो वर्ग पीछे है, जो क्षेत्र पीछे है, हमें उनकी हैंड-होल्डिंग करनी ही होगी। आज नॉर्थ ईस्ट में कनेक्टिविटी का नया इतिहास लिखा जा रहा है। ये कनेक्टिविटी दिलों की भी है और इंफ्रास्ट्रक्चर की भी है। बहुत जल्द नॉर्थ ईस्ट के सभी राज्यों की राजधानियों को रेलसेवा से जोड़ने का काम पूरा होने वाला है।

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के विकास के आधार बनेंगे।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारा पूर्वी भारत, नॉर्थ ईस्ट, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख सहित पूरा हिमालय का क्षेत्र हो, हमारी कोस्टल बेल्ट या फिर आदिवासी अंचल हो, ये भविष्य में भारत के विकास का बड़ा आधार बनेंगे।

कश्मीर में चुनाव की हो रही तैयारी- मोदी।

पीएम मोदी ने कहा कि सभी के सामर्थ्य को उचित अवसर देना, यही लोकतंत्र की असली भावना है। जम्मू हो या कश्मीर, विकास का संतुलन अब ज़मीन पर दिख रहा है। जम्मू कश्मीर में डी-लिमिटेशन कमीशन का गठन हो चुका है और भविष्य में विधानसभा चुनावों के लिए भी तैयारी चल रही है। लद्दाख भी विकास की अपनी असीम संभावनाओं की तरफ आगे बढ़ चला है। एक तरफ लद्दाख, आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण होते देख रहा है तो वहीं दूसरी तरफ ‘सिंधु सेंट्रल यूनिवर्सिटी’ लद्दाख को उच्च शिक्षा का केंद्र भी बनाने जा रही है।

गांवों में भी पहुंच रहा इंटरनेट।

देश के जिन ज़िलों के लिए ये माना गया था कि ये पीछे रह गए, हमने उनकी आकांक्षाओं को भी जगाया है। देश मे 110 से अधिक आकांक्षी ज़िलों में शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण, सड़क, रोज़गार, से जुड़ी योजनाओं को प्राथमिकता दी जा रही है। इनमें से अनेक जिले आदिवासी अंचल में हैं। आज हम अपने गांवों को तेजी से परिवर्तित होते देख रहे हैं। बीते कुछ वर्ष, गांवों तक सड़क और बिजली जैसी सुविधाओं को पहुंचाने रहे हैं। अब गांवों को ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क, डेटा की ताकत पहुंच रही है, इंटरनेट पहुंच रहा है। गांव में भी डिजिटल Entrepreneur तैयार हो रहे हैं।

लाल किले से बोले पीएम मोदी, छोटा किसान बने, देश की शान।

गांव में जो हमारी सेल्फ हेल्प ग्रुप से जुड़ी 8 करोड़ से अधिक बहनें हैं, वो एक से बढ़कर एक प्रॉडक्ट्स बनाती हैं। इनके प्रॉडक्ट्स को देश में और विदेश में बड़ा बाजार मिले, इसके लिए अब सरकार ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म तैयार करेगी। देश के 80 प्रतिशत से ज्यादा किसान ऐसे हैं, जिनके पास 2 हेक्टेयर से भी कम जमीन है।पहले जो देश में नीतियां बनीं, उनमें इन छोटे किसानों पर जितना ध्यान केंद्रित करना था, वो रह गया। अब इन्हीं छोटे किसानों को ध्यान में रखते हुए निर्णय लिए जा रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि हमारा संकल्प है कि छोटा किसान बने देश की शान।

मनुफक्चरर्स का हर एक प्रोडक्ट भारत का ब्रांड एंबेसेडर- मोदी।

भारत आज अपना लड़ाकू विमान बना रहा है, सबमरीन बना रहा है, गगनयान भी बना रहा है। विकास के पथ पर आगे बढ़ते हुए भारत को अपनी मैन्यूफैक्चरिंग और एक्सपोर्ट, दोनों को बढ़ाना होगा। आपने देखा है, अभी कुछ दिन पहले ही भारत ने अपने पहले स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर INS विक्रांत को समुद्र में ट्रायल के लिए उतारा है। मैं इसलिए मनुफक्चरर्स को कहता हूं। आपका हर एक प्रॉडक्ट भारत का ब्रांड एंबेसेडर है। जब तक वो प्रॉडक्ट इस्तेमाल में लाया जाता रहेगा, उसे खरीदने वाला कहेगा – हां ये मेड इन इंडिया है। देश के सभी मैन्यूफैक्चर्स को भी ये समझना होगा- आप जो प्रॉडक्ट बाहर भेजते हैं वो आपकी कंपनी में बनाया हुआ सिर्फ एक Product नहीं होता। उसके साथ भारत की पहचान जुड़ी होती है, प्रतिष्ठा जुड़ी होती है, भारत के कोटि-कोटि लोगों का विश्वास जुड़ा होता है।

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति देश की जरूरतों को पूरा करने वाली।

आज देश के पास 21वीं सदी की जरूरतों को पूरा करने वाली नई ‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति’ भी है। जब गरीब के बेटी, गरीब का बेटा मातृभाषा में पढ़कर प्रोफेशनल्स बनेंगे तो उनके सामर्थ्य के साथ न्याय होगा। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को गरीबी के खिलाफ लड़ाई का मैं साधन मानता हूं। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की एक और विशेष बात है। इसमें स्पोर्ट्स को Extracurricular की जगह मेनस्ट्रीम पढ़ाई का हिस्सा बनाया गया है। जीवन को आगे बढ़ाने में जो भी प्रभावी माध्यम हैं, उनमें एक स्पोर्ट्स भी है।

सैनिक स्कूलों में लड़कियां भी ले सकेंगी एडमिशन- मोदी।

पीए मोदी ने कहा कि अब सैनिक स्कूलों में देश की बेटियां भी एडमिशन ले सकेंगी। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि यह देश के लिए गौरव की बात है कि शिक्षा हो या खेल, बोर्ड्स के नतीजे हों या ओलपिंक का मेडल, हमारी बेटियां आज अभूतपूर्व प्रदर्शन कर रही हैं। आज भारत की बेटियां अपना स्पेस लेने के लिए आतुर हैं। दो-ढाई साल पहले मिजोरम के सैनिक स्कूल में पहली बार बेटियों को प्रवेश देने का प्रयोग किया गया था। अब सरकार ने तय किया है कि देश के सभी सैनिक स्कूलों को देश की बेटियों के लिए भी खोल दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज मैं एक खुशी देशवासियों से साझा कर रहा हूं। मुझे लाखों बेटियों के संदेश मिलते थे कि वो भी सैनिक स्कूल में पढ़ना चाहती हैं, उनके लिए भी सैनिक स्कूलों के दरवाजे खोले जाएं।

नेशनल हाईड्रोजन मिशन का ऐलान।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत की प्रगति के लिए, आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए भारत का Energy Independent होना अनिवार्य है। इसलिए आज भारत को ये संकल्प लेना होगा कि हम आजादी के 100 साल होने से पहले भारत को Energy Independent बनाएंगे:भारत आज जो भी कार्य कर रहा है, उसमें सबसे बड़ा लक्ष्य है, जो भारत को क्वांटम जंप देने वाला है- वो है ग्रीन हाइड्रोजन का क्षेत्र। मैं आज तिरंगे की साक्षी में नेशनल हाईड्रोजन मिशन की घोषणा कर रहा हूं।

संकल्पों को पूरा करने के लिए देश के हर जन को जुडऩा होगा-मोदी।

पीएम मोदी ने कहा कि जिन संकल्पों का बीड़ा आज देश ने उठाया है, उन्हें पूरा करने के लिए देश के हर जन को उनसे जुड़ना होगा, हर देशवासी को इसे Own (आत्मसात) करना होगा। देश ने जल संरक्षण का अभियान शुरू किया है, तो हमारा कर्तव्य है पानी बचाने को अपनी आदत से जोड़ना। मैं भविष्य़दृष्टा नहीं हूं, मैं कर्म के फल पर विश्वास रखता हूं। मेरा विश्वास देश के युवाओं पर है। मेरा विश्वास देश की बहनों-बेटियों, देश के किसानों, देश के प्रोफेशनल्स पर है। ये Can Do Generation है, ये हर लक्ष्य हासिल कर सकती है।

पीएम मोदी ने भाषण के अंत में किया कविता पाठ।

पीएम मोदी ने एक कविता का पाठ किया। उससे पहले उन्होंने कहा कि 21वीं सदी में भारत के सपनों और आकांक्षाओं को पूरा करने से कोई भी बाधा रोक नहीं सकती। हमारी ताकत हमारी जीवटता है, हमारी ताकत हमारी एकजुटता है। हमारी प्राणशक्ति, राष्ट्र प्रथम, सदैव प्रथम की भावना है। इसके बाद पीएम मोदी ने कविता पाठ किया-

यही समय है, सही समय है, भारत का अनमोल समय है।
कुछ ऐसा नहीं जो कर ना सको,
कुछ ऐसा नहीं जो पा ना सको,
तुम उठ जाओ, तुम जुट जाओ,
सामर्थ्य को अपने पहचानो,
कर्तव्य को अपने सब जानो,
भारत का ये अनमोल समय है,
यही समय है, सही समय है।

यही समय है, सही समय है,
भारत का अनमोल समय है।
असंख्य भुजाओं की शक्ति है,
हर तरफ़ देश की भक्ति है,
तुम उठो तिरंगा लहरा दो,
भारत के भाग्य को फहरा दो।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram