Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: क्या पत्थरबाजी का यह वायरल वीडियो उत्तर प्रदेश से हैं? जाने पूरा सच

0 1,845

फैक्ट चेक: क्या पत्थरबाजी का यह वायरल वीडियो उत्तर प्रदेश से हैं? जाने पूरा सच

उत्तर प्रदेश के कानपूर जिले में हाल ही में दो गुटों के बीच हिंसक झड़प हुई थी, इसी को लेकर सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में कुछ युवक एक घर की छत पर खड़े होकर पत्थरबाजी करते हुए दिखाई दे रहे हैं। इसी वीडियो को सोशल मीडिया पर मौजूदा हिंसक झड़प से जोड़कर इसे उत्तर प्रदेश का बता रहे हैं। फेसबुक पर इस वायरल वीडियो को शेयर कर लिखा गया है कि,”मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश इन पत्थरबाजों पर भी कार्रवाई होगी या नहीं ।”

फेसबुक के वायरल पोस्ट का लिंक यहाँ देखें।

 

फैक्ट चेक: 

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में पता चला कि वायरल वीडियो यूपी का नहीं बल्कि मध्यप्रदेश के खरगौन का है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो को देखने पर हमें इसके पुराने होने की आशंका हुई। जिसके बाद हमने वीडियो का सच जानने के लिए InVid टूल की सहायता से वीडियो को कुछ कीफ्रेम्स में तोड़ा और फिर गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च टूल के माध्यम से खोजना शुरू किया। खोज के दौरान हमें Samiullah Khan नमक ट्विटर पर यूज़र द्वारा किया गया एक ट्वीट प्राप्त हुआ, जो अप्रैल 14 ,2022 को किया गया था।

इस दौरान ट्वीट से पता की यह वायरल वीडियो उत्तर प्रदेश का नहीं बल्कि मध्य प्रदेश के खरगौन का है। बता दें कि बीतें रामनवमी के दिन मध्यप्रदेश के खरगोन में सांप्रदायिक हिंसा भड़क उठी थी, उसी दौरान का यह वीडियो है। ट्वीट में बताया गया है कि छत से पथराव कर रहे लोग समुदाय विशेष के नहीं बल्कि किसी अन्य समुदाय के हैं।

वीडियो की सटीक जानकारी के लिए हमने गूगल पर और बारीकी से खोजना शुरू किया।  खोज के दौरान हमें The Click Hindi नामक फेसबुक पेज पर इसी घटना का एक वीडियो मिला जिसे एक दुसरे एंगल से लिया गया था। बता दें प्राप्त इस वीडियो को अप्रैल 11 को अपलोड किया गया था।

उपरोक्त प्राप्त वीडियो के कैप्शन में जानकारी दी गयी है कि यह वीडियो शोभा यात्रा के दौरान खरगोन में हुई हिंसा के दौरान का है। इसके अतिरिक्त हमें वायरल वीडियो Gafar Vahora नामक फेसबुक अकाउंट पर भी मिला। जिसे अप्रैल 17,2022 को अपलोड किया गया था।

पड़ताल के दौरान उपरोक्त मिले तथ्यों से पता चाल कि यह वायरल वीडियो हालिया दिनों में उत्तर प्रदेश में हुई घटना का नहीं बल्कि रामनवमी के दौरान मध्य प्रदेश के खरगोन में हुई सांप्रदायिक हिंसा के दौरान का है।