Hindi Newsportal

ईवीएम से संबंधित शिकायतों की निगरानी के लिए चुनाव आयोग ने की 24*7 नियंत्रण कक्ष की स्थापना

0 1,237

ईवीएम के साथ कथित छेड़छाड़ और संदिग्ध हेरफेर पर चिंता व्यक्त करते हुए, चुनाव आयोग ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) से संबंधित शिकायतों की निगरानी के लिए नई दिल्ली के निर्वाण सदन में 24*7 ईवीएम नियंत्रण कक्ष की स्थापना की है.

मतगणना के दिन ईवीएम से संबंधित कोई भी शिकायत नियंत्रण कक्ष में दर्ज की जा सकती है. नियंत्रण कक्ष से नंबर 011-23052123 पर संपर्क किया जा सकता है.

चुनाव आयोग ने कहा कि आयोग के पर्यवेक्षकों और उम्मीदवारों की मौजूदगी में ईवीएम और मतदाता-सत्यापित पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) को सील बंद रखने के लिए स्ट्रांगरूम डिजाइन किए गए हैं. ये कमरे बिल्कुल सुरक्षित हैं और अधिकारियों द्वारा सीलिंग और संचयन की पूरी प्रक्रिया की वीडियो टेपिंग की जाती है.

मतगणना के दिन इन स्ट्रांगरूमस को खोला जाता है. मतगणना में प्रयुक्त मशीनों की पारदर्शिता और प्रामाणिकता बनाए रखने के लिए मतगणना एजेंटों को सील, पता टैग और ईवीएम के सीरियल नंबर दिखाए जाते हैं.

चुनाव आयोग ने कहा कि सभी प्रोटोकॉल और प्रावधानों को राजनीतिक दलों को समझाया गया है और यह स्पष्ट किया गया है कि इन मशीनों को संभालने में चूक के किसी भी मामले की जांच की जाएगी। चुनाव आयोग ने चूक के ऐसे किसी मामले में जिम्मेदार पाए गए अधिकारी के खिलाफ एक अनुशासनात्मक कार्रवाई भी सुनिश्चित की.

मंगलवार को, चुनाव आयोग ने कथित तौर पर ईवीएम की जगह बदली जाने को आईवीएम की धांधली करार देने वाली रिपोर्ट्स को झूठा बताया.

“ईवीएम की कथित आवाजाही की शिकायतें, कथित रूप से मतदान केंद्रों पर रखे ईवीएम को बदलने की कोशिशों से जुड़ी ख़बरें, जिन्हे मीडिया के वर्गों द्वारा फैलाया जा रहा है, बिल्कुल झूठ है.”

ALSO READ: कांग्रेस नेता उदित राज ने ईवीएम पर छिड़ी बहस में सुप्रीम कोर्ट को घसीटा

चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा, मीडिया में वायरल हुए दृश्य मतदान के दौरान इस्तेमाल किए गए किसी भी ईवीएम से संबंधित नहीं हैं.

चुनाव आयोग का यह बयान विपक्षी दलों द्वारा टीवी रिपोर्ट का हवाला देते हुए यह आरोप लगाने के बाद आया है कि उत्तर प्रदेश के कुछ निर्वाचन क्षेत्रों में स्ट्रांगरूम में रखे ईवीएम को बदल दिया गया था.