Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: वायरल मारपीट के वीडियो में नहीं है कोई सांप्रदायिक रंग, भ्रामक दावे के साथ वायरल हुआ वीडियो

0 341

फैक्ट चेक: वायरल मारपीट के वीडियो में नहीं है कोई सांप्रदायिक रंग, भ्रामक दावे के साथ वायरल हुआ वीडियो

दिल्ली के जहांगीरपुरी में कुछ दिन पहले हनुमान जयंती के मौके पर निकाली जा रही शोभा यात्रा के दौरान दो समुदायों में झड़प हो गयी, जिसमें आठ पुलिसकर्मी समेत कुल नौ लोग घायल हो गए थे। इसी घटना के बाद से सोशल मीडिया पर कई वीडियो और तस्वीरें वायरल हो रही हैं।

ऐसा ही एक वीडियो इन दिनों भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में कुछ लोगों आपस में झड़पते हुए तथा कुछ लोगों को लाठी और डंडों से एक बुजुर्ग व्यक्ति को पीटते देखा जा सकता है। इसी वीडियो को इंटरनेट पर शेयर कर दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो दिल्ली के संगम विहार का है। जहां समुदाय विशेष के लोग उनके पड़ोस में रहने वाले लोगों को पीट रहे हैं।

फेसबुक पर वायरल वीडियो को शेयर कर हिंदी भाषा के कैप्शन में लिखा जा रहा है कि, “वीडियो जरूर देखे, जहांगीर पूरी के बाद,संगम विहार भारतीय जनता पार्टी के छोड़कर किसी ओर पार्टी को वोट दिया आपके साथ भी ऐसा ही होने वाला है यह बात ध्यान में रखोगे। विकास चल रहा है कृपया हिंदू दूर रहे, विकास पूरा होने पर आपको बता दिया जाएगा जैसे काश्मीर, बंगाल केरल कर्नाटक में बता भी दिया था भगा भी दिया था। दिल्ली संगम विहार की घटना मुसलमानों का आतंग और बसाओ इनको अपने आस पास एक समय आएगा यही परिणाम मिलेगा

 

फेसबुक का लिंक यहाँ देखें।

फैक्ट चेक: 

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में पता चला कि यह वीडियो भ्रामक दावे के साथ वायरल हो रहा है।

इंटरनेट पर वायरल हो रहे मारपीट के इस वीडियो की सच्चाई जानने के लिए हमने पड़ताल की। पड़ताल के दौरान हमने सबसे पहले वायरल वीडियो को कुछ कीफ्रेम्स में तोड़ा और फिर गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च टूल से खोजना शुरू किया। खोज के दौरान हमें वायरल वीडियो ट्विटर के ‘पत्रकार विशाल प्रजापति’ नामक यूज़र की प्रोफइल पर मिला। जहां उन्होंने इस वीडियो को पोस्ट करते हुए लिखा कि, ‘डुब कर मर जाना चाहिए ऐसी औलाद को चुल्लूभर पानी में दिल्ली।पिता चाहे अपनी औलाद के लिए चाहे कितना कर ले लेकिन नाफरमानी औलाद पैसे जमीन जायदाद के लिए अपनो का खून बहाने से पीछे नही हटती ‘ .  

उपरोक्त प्राप्त ट्विटर पोस्ट से हमें पता आशंका हुई कि इस मामले में किसी भी प्रकार का कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं है बल्कि यह मामला पिता और उनके पुत्रों के बीच का लगा।

मामले की पूरी सच्चाई जानने के लिए हमने गूगले पर कुछ संबंधित कीवर्ड्स से खोजना शुरू किया। जिसके बाद वायरल  वीडियो से मेल खाती एक तस्वीर नवभारत की वेबसाइट पर मई 03, 2022 को प्रकाशित एक लेख में मिली। लेख में जानकारी दी गयी थी कि दिल्ली के सोनिया विहार गली नंबर 03 में प्रॉपर्टी विवाद के चलते पुत्रों ने अपने ही पिता और दादा को बेहरहमी से पीटा था।

नवभारत की रिपोर्ट के अतिरिक्त हमें NDTV की वेबसाइट पर भी मामले से संबंधित एक लेख प्रकाशित मिला, जहां उपरोक्त लेख में मिली जानकारी की पुष्टि की गयी थी।

इस तरह वायरल वीडियो की पड़ताल के दौरान मिले तथ्यों से हमें पता चला कि वीडियो में हुई मारपीट के मामले में कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं बल्कि यह मामला एक ही परिवार का है जहां प्रॉपर्टी विवाद के चलते बच्चों ने अपनी ही पिता और दादा को बर्बरता पूर्वक पीट डाला।