Hindi Newsportal

‘संसद का यह सत्र छोटा है, पर यह सत्र ऐतिहासिक निर्णयों का सत्र है…’: PM Modi

फाइल इमेज
0 283

नई दिल्ली: आज यानी सोमवार, 18 सितंबर से संसद का पांच दिवसीय “अमृत काल” सत्र सुबह 11 बजे से शुरू होने जा रहा है. केंद्र सरकार द्वारा बुलाए गए विशेष सत्र में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह संसद भवन पहुंचे.

पांच दिवसीय “अमृत काल” सत्र शुरू होने से पहले पीएम मोदी ने मीडिया के माध्यम से कहा, ये सही है कि संसद का ये सत्र छोटा है लेकिन समय के हिसाब से ये बहुत बड़ा है. ये सत्र ऐतिहासिक निर्णयों का सत्र है.

 

पीएम मोदी ने कहा, मून मिशन की सफलता चंद्रयान-3, हमारा तिरंगा फहरा रहा है. शिव शक्ति प्वाइंट नई प्रेरणा का केंद्र बना है. तिरंगा प्वाइंट हमें गर्व से भर रहा है.

 

पीएम ने आगे जी-20 की बात पर जोर देते हुए कहा, जी-20 में भारत इस बात के लिए हमेशा गर्व करेगा कि हम ग्लोबल साउथ की आवाज बनें. अफ्रीकन यूनियन को स्थायी सदस्यता और जी-20 में सर्वसम्मति से डिक्लेरेशन ये सारी बातें भारत के उज्ज्वल भविष्य के संकेत दे रही हैं.

 

वहीं दूसरी ओर सदन के पटल के लिए रणनीति तैयार करने के लिए संसद भवन में राज्यसभा में एलओपी मल्लिकार्जुन खरगे के कार्यालय में INDIA गठबंधन के दलों के नेताओं की एक बैठक चल रही है.

 

बता दें कि, आज यानी सोमवार, 18 सितंबर से संसद का पांच दिवसीय “अमृत काल” सत्र शुरू होने जा रहा है. इस विशेष सत्र को लेकर गहन चर्चा जारी है सूत्रों की मानें तो सरकार के पास कोई आश्चर्यजनक घोषणा है, जिसके लिए इस विशेष सत्र को आयोजित किया गया है. सरकार ने फिलहाल विशेष सत्र के लिए एक अस्थायी कार्य सूची जारी की है. जिसमें 8 विधेयक भी शामिल होंगे और संसद की 75 साल की यात्रा पर चर्चा होगी. इस सत्र के दौरान कुल आठ विधेयकों को चर्चा और पारित कराने के लिए सूचीबद्ध किया गया है, जिनमें मुख्य निर्वाचन आयुक्त और निर्वाचन आयुक्तों की नियुक्ति संबंधी विधेयक भी शामिल है.