Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: फ्री प्लाज़्मा के नाम पर वायरल हो रहे इस सन्देश की जानें सच्चाई

0 389

भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों और रोज़ नए मामलों के साथ बनते रिकॉर्ड के बीच इन दिनों सोशल मीडिया पर फेक और भ्रामक ख़बरों की बाढ़ सी आ गयी है। इसी क्रम में सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है जिसमे दावा किया जा रहा है कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों को एक NGO मुफ्त में प्लाज़्मा की व्यवस्था कर के दे रहा है।

सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज में लिखा है – दिल्ली में किसी को भी प्लाज़्मा की ज़रुरत हो तो उन्हें ये नंबर दे। ये लोग ‘Team Step ONe’ के माध्यम से तुरंत प्लाज़्मा उपलब्ध करा देते है वो भी मुफ्त में। Dr Monica Bhagat +91 98100 26546 / NGO No. 9811869823”

सोशल मीडिया पर इसी तरह के पोस्ट आप यहाँ, यहाँ, यहाँ, यहाँ और यहाँ देख सकते है।

हमे इसी तरह के मैसेज/ सन्देश ट्विटर पर भी मिले।

इन मैसेज को आप यहाँ, यहाँ और यहाँ देख सकते है।

फैक्ट चेक :

न्यूज़मोबाइल ने इस पोस्ट की जांच की और इसे फेक पाया।

ये भी पढ़े : फैक्ट चेक: जानें क्या है लठ से पिट रही जनता के इस वीडियो की सच्चाई?

फैक्ट चेक के दौरान हमने नोटिस किया कि वायरल मैसेज को स्टेप वन एनजीओ के नाम से वायरल किया जा रहा हैं। उनके ट्विटर बायो के अनुसार, यह NGO डॉक्टरों (Community Of Doctors) और नागरिक स्वयंसेवकों (citizen volunteers) के समुदाय द्वारा चलाया जाता है और जो 100 % स्वयंसेवक (volunteer run) है। यह सारे वालंटियर टेलीमेडिसिन के माध्यम से कोरोना के खिलाफ जंग में अपना योगदान दे रहे है।

हमने वायरल मैसेज को स्टेप वन के साथ भी साझा किया, जिसके बाढ़ उन्होंने न्यूजमोबाइल को पुष्टि की कि वायरल मैसेज फर्जी है।

हमने मैसेज में बताए गए दोनों नंबरों पर भी संपर्क किया।

इनमें से एक कांटेक्ट नंबर गुरुग्राम स्थित सामाजिक कार्यकर्ता इकबाल कौर खुराना का है। उन्होनें हमें बताया कि ये वायरल मैसेज फेक है। उनका कहना है कि उन्हें 9 अप्रैल से ‘फ्री प्लाज़्मा’ के लिए लगातार कॉल आ रहे हैं और वह इस बारे में एनजीओ और सेल फोन कंपनी के पास भी गई। उन्होंने हमें यह भी बताया कि उन्होंने साइबर सेल को इस मामले की सूचना दी है और साइबर सेल मामलें की जांच कर रही है।

उन्होंने आगे कहा -“यह संवेदनशील मामला है क्योंकि जो लोग फोन कर रहे हैं वे संकट में हैं और मदद की जरूरत में है। इस मामले को प्रकाश में लाया जाना चाहिए और उचित तरीके से नियंत्रित किया जाना चाहिए।

दूसरा नंबर डॉ मोनिका भगत का है। दरअसल मोनिका ने अपने नर्सिंग होम के साथ समाज सेवा की यात्रा शुरू की और कोरोनोवायरस महामारी के दौरान एक स्वयंसेवक (volunteer) के रूप में Team Step One NGO के साथ जुड़ गई।

उन्होंने न्यूज़मोबाइल को बताया कि किसी ने कांटेक्ट नंबर लिख के आगे NGO का नाम लिख दिया। मैंने प्लाज्मा की व्यवस्था करने में कुछ लोगों की मदद की क्योंकि स्टेप वन ILBS से जुड़ा था। तो किसी ने इस मैसेज को वायरल कर दिया। तब से मैंने कभी किसी को मना नहीं किया लेकिन साथ में लोगों को सच्चाई भी बता रही हूँ।

इतनी जानकारी से हम दावा कर सकते है कि सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज फेक और भ्रामक है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 11 7127 9799 पर व्हाट्सएप करें