Hindi Newsportal

जासूसी के आरोप में 8 साल तक पाकिस्तान जेल में रहे शम्शुद्दीन कानपुर लौटे

Pic: Twitter
0 291

जासूसी के आरोप में आठ साल तक पाकिस्तान की जेल में रहने के बाद कानपुर का एक व्यक्ति अपने घर लौट आया। उनका परिवार पूरी तरह से हैरान हो गया.

70 वर्षीय शम्सुद्दीन को रविवार को स्थानीय अधिकारियों वापस लाये। उनका गर्मजोशी के साथ स्वागत किया गया और उनकी वापसी से उनके इलाके में दीवाली जैसी खुशी का एहसास हुआ। एक मुस्कुराते हुए शमसुद्दीन ने अपनी बेटियों से मुलाकात की, और बहन खुशी इतने लंबे समय के बाद शम्सुद्दीन को देखकर बेहोशी हो गई।

26 अक्तूबर को शम्शुद्दीन अपने वतन अमृतसर पहुंच गए थे, लेकिन कानपुर पहुंचने में लंबा वक्त लग गया। शुक्रवार रात स्थानीय पुलिस व खुफिया की टीम अमृतसर से उन्हें लेने रवाना हुई थी।

ये भी पढ़े: ‘लव जिहाद’ को लेकर विधेयक लाएगी मध्यप्रदेश सरकर, पांच साल की जेल का होगा प्रावधान

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, शम्सुद्दीन 1992 में 90 दिनों के विजिट वीजा पर एक परिचित के साथ पाकिस्तान चले गए थे और फिर 1994 में देश की नागरिकता प्राप्त करने के बाद वहां बस गए। 2012 में, पाकिस्तान सरकार ने उन्हें जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया और कराची की जेल में बंद कर दिया।

हमसुद्दीन 26 अक्टूबर को अटारी-वाघा सीमा के माध्यम से भारत पहुंचे और COVID-19 के प्रकोप के बीच अमृतसर में क्वारंटाइन हुए। पेशे से जूता निर्माता, शम्सुद्दीन पर फर्जी पासपोर्ट रखने के आरोप भी लगे थे। उन्होंने पीटीआई से कहा कि, पाकिस्तान में भारतीयों के साथ बहुत बुरा व्यवहार किया जाता है। “उन्हें दुश्मनों की तरह माना जाता है।

पाकिस्तान में बहुत रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार है। उन्होंने यह भी कहा, “वीजा अवधि की समाप्ति के बाद, दोनों देशों में फंसे लोगों को घर लौटने की अनुमति दी जानी चाहिए।”

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram