Hindi Newsportal

जगन रेड्डी ने की पीएम मोदी से मुलाकात, शपथ ग्रहण समारोह के लिए दिया निमंत्रण

0 424

वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेता जगनमोहन रेड्डी, जो 30 मई को आंध्र प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के लिए तैयार हैं, रविवार को राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की.

यह बैठक प्रधानमंत्री मोदी के लोक कल्याण मार्ग स्थित आवास पर आयोजित की गई थी. रेड्डी, जिनकी पार्टी ने एक शानदार जीत हासिल की, उन्होंने 175 सदस्यीय विधानसभा में 151 सीटें जीत ली और आंध्र प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों में से 22 सीटों पर जीत दर्ज की. मुलाकात में उन्होंने प्रधान मंत्री मोदी की सरकार को बाहरी या मुद्दा-आधारित समर्थन प्रदान करने पर चर्चा की.

अपने चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार रेड्डी ने उल्लेख किया था कि उनकी पार्टी आंध्र प्रदेश को विशेष श्रेणी का दर्जा देने के वादे का समर्थन करेगी.

शनिवार को रेड्डी हैदराबाद गए, जहां उन्होंने राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव से मुलाकात की. दोनों नेताओं ने नवीनतम राजनीतिक घटनाक्रमों पर चर्चा की और तेलुगु राज्यों के विकास के लिए मिलकर काम करने का निर्णय लिया.

पार्टी सूत्रों ने कहा कि जगन ने 30 मई को विजयवाड़ा में आयोजित होने वाले शपथ ग्रहण समारोह के लिए के चंद्रशेखर राव को आमंत्रित किया था.

चुनाव हारने के बाद नायडू ने गुरुवार को राज्यपाल नरसिम्हन को अपना इस्तीफा सौंप दिया था.

राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन द्वारा इस संबंध में अधिसूचना जारी किए जाने के बाद 14 वीं आंध्र प्रदेश विधानसभा को शनिवार को भंग कर दिया गया था.

ALSO READ: पीएम मोदी ने उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू से की मुलाकात, संसदीय संस्थानों को मजबूत…

राज्य में एन चंद्रबाबू नायडू की अगुवाई वाली तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) को सत्ता से हटाकर वाईएसआरसीपी को विधानसभा में पूर्ण बहुमत मिला.

नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाले एनडीए ने चुनावों में भाग लिया और 17 वीं लोकसभा चुनाव में 542 में से 353 सीटें जीतीं. आधिकारिक संख्या के अनुसार, भाजपा ने अपने 2014 के आंकड़ों की तुलना में 303 सीटें, 22 सीटें अधिक हासिल कीं.

बता दें, 2009 में चॉपर क्रैश में जगन के पिता व राज्य के सबसे लोकप्रिय सीएम रहे वाई.एस. राजशेखर रेड्डी की मौत हो गई थी. पिता की मौत के बाद कांग्रेस से उभरे मतभेदों के कारण जगन ने 2011 में अपनी अलग पार्टी बना ली थी.