Hindi Newsportal

आई-टी छापे कानून के अनुसार, किसी भी ‘राजनीतिक प्रतिशोध’ का हिस्सा नहीं: पीएम मोदी

File Image
0 675

हाल ही में देश भर के राजनीतिक दलों पर हो रहे आई-टी विभाग के छापों के संदर्भ में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ राजनेताओं पर हालिया छापे राजनीतिक प्रतिशोध का हिस्सा नहीं थे और कानून के अनुसार चीजें हो रही थीं.

टाइम्स नाउ न्यूज चैनल को दिए एक इंटरव्यू में पीएम मोदी ने कहा कि आयकर विभाग के छापे कानून के अनुसार हो रहे थे और इसमें राजनीतिक प्रतिशोध जैसे कोई और कारण ज़िम्मेदार नहीं है.

उन्होंने आगे कहा कि छापे से भ्रष्टाचार के सभी सबूत मिले हैं, जिसमें समाज के सबसे कमजोर वर्गों जैसे बच्चों और गर्भवती महिलाओं के लिए बनाई गयी सरकारी योजनाओं से लूटा गया धन भी शामिल है.

पीएम मोदी ने मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल लोकसभा सीट से मैदान में उतारने के फैसले का बचाव करते हुए कहा कि वह उन लोगों के लिए ’प्रतीक’ हैं जिन्होंने हिंदुओं को आतंकवादी बताया. उन्होंने कहा कि वह कांग्रेस को कड़ी टक्कर देंगी.

मध्य प्रदेश के भोपाल में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को उम्मीदवार बनाया गया है.

भगवा आतंकी वाली टिप्पणी को लेकर कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ठाकुर को मैदान में उतारने का फैसला उन लोगों पर वार है जो एक धर्म और संस्कृति से जुड़े लोगों को आतंकवाद से जोड़ते हैं.

ALSO READ: न्यूज़मोबाइल इलेक्शन सेंट्रल

विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी जैसे ऋण बकाएदारों के देश से भागने पर एक सवाल के जवाब में, पीएम मोदी ने कहा कि जब उन्हें एहसास हुआ कि वर्तमान सरकार के तहत, उन्हें सारा बकाया ऋण वापस करना होगा, वे सिस्टम का लाभ उठाकर भाग निकले.

पीएम मोदी ने आगे कहा कि 2019 में उन्हें जेल के दरवाज़ों तक लाया गया. 2019 के बाद, वे जेल में होंगे.

उन्होंने कहा कि आलोचक इन पर उंगलियां उठाने के साथ-साथ इस तथ्य के बारे में बात क्यों नहीं कर रहे हैं कि कुछ बकाएदारों ने अपने केस प्रत्यर्पण पर खो दिए हैं, जबकि कई अन्य जेल में सड़ रहे हैं.

उन्होंने जोर देकर कहा कि भाजपा इस बार और भी अधिक वोटों के साथ सत्ता में वापस आएगी. उन्होंने यहां तक कहा ​​कि एनडीए के बाकि सहयोगी भी 2014 के चुनावों से बेहतर प्रदर्शन दिखाएंगे. उन्होंने कहा कि पूर्ण बहुमत के साथ केंद्र में एक बार फिर सरकार बनेगी.