Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: क्या केंद्र सरकार ने योग गुरु बाबा रामदेव के 2200 करोड़ रुपए का कर्ज माफ़ किया

0 323

फैक्ट चेक: क्या केंद्र सरकार ने योग गुरु बाबा रामदेव के 2200 करोड़ रुपए का कर्ज माफ़ किया

सोशल मीडिया पर एक खबर का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है। इस खबर में दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार ने 50 डिफॉलटरों के कर्ज माफ़ किए है, इनमें से इंदौर की एक ‘रूचि सोया’ कंपनी भी शामिल है, जिसका 2212 करोड़ रुपए का कर्ज माफ़ किया गया है। बता दें खबर में यह भी बताया गया है कि इस कंपनी के मालिक योग गुरु बाबा रामदेव हैं।

फेसबुक पर उक्त खबर के स्क्रीनशॉट को शेयर कर लिखा गया है कि  “बीजेपी मोदी सरकार ने एक तरफ कफन पर टैक्स लगा रही है और दूसरे तरफ व्यापारी की कर्ज माफ कर रही है क्या बीजेपी के अंध भक्तो इसपर कुछ कहेंगे, बीजेपी भगाओ देश बचाओ ।”

 

 

 

फेसबुक का लिंक यहाँ देखें।

फैक्ट चेक 

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में हमने पाया कि वायरल दावा गलत है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे दावे की सत्यता जानने के लिए हमने पड़ताल की। पड़ताल के दौरान हमने सबसे पहले वायरल पोस्ट से संबंधित कुछ कीवर्ड्स के माध्यम से खोजना शुरू किया। खोज के दौरान हमें योग गुरु बाबा राम देव की कंपनी पतंजलि के एमडी आचार्य बालकृष्णा का एक ट्वीट प्राप्त हुआ। जो अप्रैल 08, 2022 को किया गया है। इस ट्वीट में उन्होंने जानकारी दी है कि रूचि सोया कंपनी ने अपना सारा कर्ज चुका दिया है।

आचार्य ने जानकारी दी कि ‘स्टेट बैंक ऑफ़’ इंडिया के चेयरमैन दिनेश कुमार खारा व एमडी अश्विनी भाटिया को रूचि सोया कंपनी की ओर से 2925 करोड़ का चेक मुक्त करने के लिए थमाया गया । 

उपरोक्त प्राप्त ट्वीट से यह स्पष्ट हो गया कि जिस कंपनी के हवाले यह दावा किया जा रहा है कि बाबा रामदेव की कंपनी का कर्जा जो 2200 करोड़ है, उसे सरकार ने माफ़ कर दिया है, उसी कंपनी की तरफ से SBI बैंक को 2925 करोड़ का चेक देकर कर्ज चुकाया दिया गया है।

आचार्य बालकृष्ण के ट्वीट से यह साफ़ हो गया कि वायरल पोस्ट गलत है, इसलिए हमने अब यह पता लगाने का प्रयास किया कि उक्त पोस्ट वायरल कैसे हुई। इसके लिए हमने गूगल पर एक बार फिर कुछ संबंधित कीवर्ड्स के आधार पर खोजना शुरू किया। इस दौरान हमें ZEE हिंदुस्तान की वेबसाइट पर प्रकाशित एक लेख मिला। जहां शीर्षक में लिखा है कि “आखिर क्यों प्रशांत भूषण को बाबा रामदेव से मांगनी पड़ी माफ़ी

लेख के मुताबिक मशहूर वकील प्रशांत भूषण ने योगगुरु बाबा रामदेव से माफी मांग ली है। दरअसल, प्रशांत भूषण ने एक पूर्व में एक ट्वीट करते हुए बाबा रामदेव का जिक्र किया और उन्हें डिफॉल्टर बताया था। इसके साथ ही यह आरोप लगाया कि सरकार ने उनका लोन माफ़ कर दिया। इसी के पश्चात वकील प्रशांत भूषण को माफ़ी मांगनी पड़ी।

खोज के दौरान हमें वकील प्रशांत भूषण द्वारा पोस्ट किया गया माफीनामा वाला ट्वीट भी प्राप्त हुआ, जहां उन्होंने बाबा रामदेव से अपने पूर्व ट्वीट के लिए माफ़ी मांगी है।

 

ट्वीट में उन्होंने लिखा कि ‘मैंने पहले एक पोस्टर ट्वीट किया था, जिसमें उनके नाम का जिक्र एक डिफॉल्टर के तौर पर किया गया था, जिसका लोन माफ किया गया है। पोस्टर एक पोर्टल की स्टोरी पर आधारित है, जिसमें ‘रूचि सोया’ को डिफॉल्टर के रूप में उल्लेख किया गया है। उन्होंने लिखा कि बाद में मुझे पता चला है कि बाबा रामदेव केवल इसे खरीदने की कोशिश कर रहे हैं।

पड़ताल के दौरान उपरोक्त मिले तथ्यों से पता चला कि रूचि सोया नामक कंपनी का कोई कर्जा सरकार द्वारा माफ़ नहीं किया गया था, बल्कि कंपनी ने खुद अपना सारा कर्जा SBI बैंक को चेक देकर चुका दिया है।