Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: क्या कोलकाता पुलिस ने कावड़ यात्रियों पर भांजी लाठियां? नहीं, पुराना वीडियो भ्रामक दावे के साथ हुआ वायरल

0 1,436

फैक्ट चेक: क्या कोलकाता पुलिस ने कावड़ यात्रियों पर भांजी लाठियां? नहीं, पुराना वीडियो भ्रामक दावे के साथ हुआ वायरल

 

गुरुवार यानी 14 जुलाई से सावन शुरू हो गया है जो 12 अगस्त तक चलेगा। सावन के शुरू होते ही कावंड यात्रा भी शुरू हो जाती है। ऐसे में इन दिनों सोशल मीडिया पर कावंड यात्रा के संदर्भ में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि एक मंदिर के सामने पुलिस कुछ लोगों को पर लाठियां बरसा रही है। इसी वीडियो को इंटरनेट पर शेयर कर दावा किया जा रहा है कि पश्चिम बंगाल की कोलकाता पुलिस सीएम ममता बनर्जी के आदेश पर मंदिर के सामने लोगों कथित रूप से एकत्रित हुए कावंड यात्रियों पर लाठियां भांज रही है।

फेसबुक पर इस वीडियो को शेयर कर कैप्शन में लिखा गया है कि,” बंगाल मे कवड़ियो पे ममता बानो की पुलिस लाठिया बरसाती हुई ।”

 

फेसबुक पर वायरल वीडियो का लिंक यहाँ देखें।

 

फैक्ट चेक: 

न्यूज़मोबाइल ने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल वीडियो हालिया दिनों का नहीं बल्कि एक साल पुराना है साथ ही वीडियो में पुलिस की लाठियां खा रहे लोग कावंड यात्री नहीं। 

फेसबुक पर वायरल हुए वीडियो के साथ शेयर किए गए दावे की सत्यता जानने के लिए हमने पड़ताल की। पड़ताल के पहले चरण में हमने वीडियो को कुछ कीफ्रेम्स में तोड़ा और फिर गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च टूल के माधयम से खोजना शुरू किया। जिसके बाद हमें Abhishek Chauhan नामक ट्विटर यूज़र द्वारा अगस्त 17, 2021 को अपलोड किए गए एक पोस्ट में मिली।

 

पोस्ट के मुताबिक यह वीडियो साल 2021 के दौरान का है, जहां कोलकाता पुलिस भूतनाथ मंदिर के सामने शिव भक्तों पर लाठियां बरपा रही हैं। चूकिं कावंड यात्रा भारत में कोरोना संक्रमण के कारण करीब दो साल से प्रतिबंधित थी, इसलिए हमें आशंका हुई कि कोलकाता पुलिस कावंड यात्रियों पर लाठियां नहीं बरपा रही है। सच्चाई जानने के लिए हमने गूगल पर कुछ कीवर्ड्स के माध्यम से बारीकी से तथ्यों को खोजना शुरू किया।

खोज के दौरान हमें दैनिक भास्कर की वेबसाइट पर साल 2021 के दौरान छपा एक लेख मिला। लेख के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर के बाद साल 2021 के दौरान सावन के महीने में कोलकाता के भूतनाथ मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ एकत्रित हो गयी थी जिसे भागने के लिए पुलिस ने लाठी चार्ज की थी।

इसके बाद हमें इस मामले की फुटेज यूट्यूब पर NewsHatt नामक चैनल पर भी मिली जिसे, अगस्त 17,2021 को अपलोड किया गया था। यूट्यूब पर जानकारी दी गयी है कि कोलकाता का शिव मंदिर बंद था, लेकिन वहाँ भक्तों की भारी भीड़ एकत्रित हो गयी थी, जिसे भागने के लिए वहां पुलिस ने लाठियां बरपाई गयी। बता दें कि यह कावंड यात्री नहीं थे, कोलकाता के आस-पास के इलाके में रहने वाले भूतनाथ मंदिर के भक्त वहां एकत्रित हुए थे।

 

 

पड़ताल के दौरान हमें मिले तथ्यों से पता चला कि वायरल वीडियो हालियां दिनों का नहीं बल्कि साल 2021 के दौरान का है। साथ ही कोलकाता पुलिस कावंड यात्रियों पर लाठियां नहीं बरपा रही बल्कि साल 2021 में कोरोना के दूसरी लहर के बाद कोलकाता के भूतनाथ मंदिर पर एकत्रित हुई भीड़ को भागने के लिए वह मौजूद लोगों पर लाठियां भांजी गयी थी।