Hindi Newsportal

क्या कुरुक्षेत्र के मंदिर में बनाई गयी मजार? जाने वायरल दावे का पूरा सच

0 1,212

क्या कुरुक्षेत्र के मंदिर में बनाई गयी मजार? जाने वायरल दावे का पूरा सच

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, वीडियो में एक व्यक्ति द्वारा दावा किया जा रहा है कि जहाँ श्री कृष्ण भगवान ने गीता का उपदेश दिया था उस कुरुक्षेत्र के मंदिर में अब मज़ार बनने लगी है। यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इसी वीडियो को फेसबुक पर शेयर कर लिखा गया है कि,’मुस्लि”मों ने मंदिर के अंदर बना दी ज़बरजस्ती मज़ार अब आप लोग का सपोर्ट चाहिए’

 

फेसबुक पोस्ट का वायरल लिंक यहाँ देखें

 

फैक्ट चेक:

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल के दौरान मिले तथ्यों से हमें पता चला वायरल वीडियो भ्रामक दावे के साथ वायरल हो रहा है।

वायरल वीडियो की सच्चाई जानने के लिए हमने पड़ताल की। पड़ताल के पहले चरण में हमने वीडियो को InVid टूल की सहायता से कुछ कीफ्रेम्स में तोड़ा और गूगल पर रिवर्स इमेज टूल की सहयता से खोजना शुरू किया। लेकिन इस दौरान हमें वायरल वीडियो से संबंधित कोई जानकारी नहीं मिली।

वायरल वीडियो के मामले में जानकारी जुटाने के लिए हमने गूगल पर यह खोजा कि कुरुक्षेत्र के कौन से मंदिर में भगवान कृष्ण ने गीता का उपदेश दिया था। खोज के बाद हमें दैनिक जागरण की वेबसाइट पर छपा एक लेख मिला। जहां इस बात की जानकारी दी गयी थी कि कुरुक्षेत्र की जिस जगह पर श्री कृष्ण ने गीता का उपदेश दिया था आज उसे ज्योतिसर कहते हैं।

 

इसके बाद हमने एक बार ‘ज्योतिसर तीर्थ मजार’ कीवर्ड्स से खोजना शुरू किया। खोज के बाद हमें दैनिक जागरण की वेबसाइट पर बीते 10 मई को छपा एक लेख मिला। लेख के मुताबिक ज्योतिसर तीर्थ के पंडित के पितरों के भोरखों पर किसी शरारती तत्व ने नीली चादर डाल दी। जिसके बाद इसे लेकर वीडियो वायरल हो गई। बता दें पितरों के स्थान को भोरखा बोलते है।

 

 

मामले की पुष्टि तथा सटीक जानकारी के लिए न्यूज़मोबाइल ज्योतिसर पुलिस थाने में फ़ोन पर सीधा संपर्क किया। जहां हमारी बात उप थाना इंचार्ज राम सनेही से हुई, बातचीत में उन्होंने बताया कि,ज्योतिसर मंदिर के पंडित सत्पाल शर्मा है, उन्हीं के बुज़ुर्गों का यहाँ भोरखा बना हुआ था। उन्होंने उनके पूर्वजों लो शांति के लिये इस मंदिर में भोरखा बनाया था। तो उस भोरखे पर कुछ शरारती तत्वों ने पीर बाबा लिखा हुआ नीले रंग का कपड़ा ढक दिया और उसी  की वीडियो बनाकर वायरल कर दी। राम सनेही ने यह भी बताया कि सत्पाल शर्मा के परिजनों ने खुद ने इस भोरखे को हटाकर अपने खेत में स्थापित कर लिया है, ज्योतिसर तीर्थ पर कोई मज़ार नहीं है ‘।

वायरल वीडियो की पड़ताल के दौरान मिले तथ्यों से पता चला कि ज्योतिसर मंदिर में कोई मज़ार नहीं है, दरअसल मंदिर में  वहां के पंडित सत्पाल शर्मा के बुज़ुर्गों का भोरखा बना हुआ था, जिस पर किसी शरारती तत्वों ने पीर बाबा लिखा हुआ एक नीले रंग के कपड़े से ढक दिया, उसी कपड़े का वीडियो बनाकर किसी ने सोशल मीडिया पर भ्रामक दावे के साथ वायरल कर दिया। बता दें अब मंदिर से पंडित सत्पाल शर्मा ने अपने बुजुर्गों का भोरखा भी हटा कर अपने खेतों में स्थापित कर लिया है।