Hindi Newsportal

महामारी विशेषज्ञ का अनुमान; चीन की 60% आबादी को COVID होने की आशंका

0 449

बीजिंग: कोविड-19 प्रतिबंधों में ढील के बाद चीन में कोरोना वायरस के मामलों में भारी वृद्धी देखने को मिल रही है. महामारी विशेषज्ञ ने ये भी अनुमान जताया है कि अगले 90 दिनों में चीन के 60 प्रतिशत से अधिक और पृथ्वी की 10 प्रतिशत आबादी के संक्रमित होने और लाखों लोगों की मृत्यु होने की आशंका है.

 

कोविड-19 प्रतिबंधों में ढील के बाद एक बार फिर चीन कोरोना वायरस की चपेट में आता दिख रहा है. महामारी विशेषज्ञ और स्वास्थ्य अर्थशास्त्री एरिक फीगल-डिंग ने बताया कि चीन में अस्पताल पूरी तरह से चरमरा गए हैं.

 

वॉल स्ट्रीट जर्नल ने रिपोर्ट किया है कि, चीन की राजधानी में कोरोना वायरस फैल जाने के चलते कोविड-19 रोगियों के लिए बीजिंग के नामित श्मशान घाटों में से एक हाल के दिनों में शवों से भर गया है. फीगल-डिंग के अनुसार, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (CCP) का लक्ष्य है “जिसे भी संक्रमित होने की जरूरत है, संक्रमित होने दें, जिसे मरने की जरूरत है, उसे मरने दें.

 

अधिकारियों ने 19 और 23 नवंबर के बीच चार मौतों की घोषणा के बाद से चीन ने बीजिंग में किसी भी कोविड से मौत की सूचना नहीं दी है. चीन के कैबिनेट के सूचना कार्यालय, स्टेट काउंसिल ने शुक्रवार देर रात भेजी गई टिप्पणी के अनुरोध का तुरंत जवाब नहीं दिया.

 

डब्लूएसजे की रिपोर्ट के अनुसार, परिसर में काम करने वाले लोगों के अनुसार, चीनी राजधानी के पूर्वी छोर पर बीजिंग डोंगजियाओ श्मशान घाट में दाह संस्कार और अन्य अंत्येष्टि सेवाओं के अनुरोधों में बड़ा उछाल आया है. शुक्रवार को श्मशान घाट पर फोन पर बात करने वाली एक महिला ने कहा, “कोविड के बाद से हम पर काम का बोझ बढ़ गया है.

 

महामारी विशेषज्ञ के मुताबिक, बीजिंग में दाह संस्कार नॉनस्टॉप हो रहे हैं और मुर्दाघर ओवरलोडेड हैं. लोग इबुप्रोफेन खरीदने के लिए एक दवा कारखाने में पहुंच गए. एक ने कहा कि, आम तौर पर, पूरे दिन की लाशों का अंतिम संस्कार दोपहर तक किया जाएगा. लेकिन शवों की संख्या में हालिया वृद्धि का मतलब है कि रात होने के बाद अब दाह संस्कार किया जा रहा है. चीन ने पिछले दिनों ही कड़े लॉकडाउन, परीक्षण और क्वारंटाइन को हटा दिया था.