Hindi Newsportal

भूटान आगमन पर पीएम मोदी को किया गया गार्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित, दो दिवसीय दौरे पर गए हैं भूटान

0 373

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शनिवार को दो दिवसीय भूटान पहुंचे हैं. एयरपोर्ट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र के स्वागत के लिए भूटान के पीएम लोटे शेरिंग भी पहुंचे थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एयर पोर्ट पर ही गॉर्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित किया गया.

यह प्रधानमंत्री के रूप में उनके दोबारा चुने जाने के बाद मोदी की भूटान की दूसरी और उनकी पहली यात्रा है.

प्रधानमंत्री अपने भूटान दौरे पर कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे. इस दौरे में भारत और भूटान के बीच आपसी संबंधों को बढ़ाने पर जोर दिया जाएगा. माना जा रहा है दोनों देशों के बीच कुछ अहम दस्तावेजों पर हस्ताक्षर भी होंगे.

भूटान रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा, ‘भूटान में, वहां के नरेश जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक और भूटान के चौथे नरेश जिग्मे सिग्ये वांगचुक और प्रधानमंत्री से मुलाकात को लेकर उत्सुक हूं. यह यात्रा दोनों शों के बीच समय की कसौटी पर खरी उतरने वाली मित्रता को और बढ़ावा देगी और एक समृद्ध भविष्य के लिए इसे मजबूत करेगी. मैं भूटान के प्रतिष्ठित रॉयल यूनिवर्सिटी में युवा भूटानी छात्रों को संबोधित करने के लिए भी उत्सुक हूं.’

अपने अगले ट्वीट में पीएम मोदी ने कहा, ’17 और 18 अगस्त को, मैं एक द्विपक्षीय यात्रा के लिए भूटान में रहूंगा, जो हमारे विश्वस्त मित्र और पड़ोसी के साथ मजबूत संबंधों से जुड़े उच्च महत्व को दर्शाता है. मैं इस यात्रा के दौरान कई तरह के कार्यक्रमों में भाग ले रहा हूं. हमारी साझी आध्यात्मिक विरासत और लोगों के बीच मजबूत आपसी संबंध इसे और सुदृढ़ बनाते हैं.’

अपनी इस यात्रा के दौरान पीएम मोदी भूटान में कई परियोजनाओं का उद्घाटन भी करेंगे जिसमें मांगदेछू हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट और थिम्पू में इसरो निर्मित पृथ्वी स्टेशन का उद्घाटन भी शामिल हैं.

ALSO READ: जम्मू और कश्मीर के पांच जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बहाल, 2 जी सेवाएं खोली…

भूटान-भारत सबसे करीबी दोस्तों में से हैं. भूटान मुश्किल से मुश्किल समय में भी भारत के साथ रहा है. भारत और चीन के बीच रणनीतिक बफर की भूमिका निभाते हुए भूटान ने देश में विस्तार करने के चीनी प्रयासों का विरोध जारी रखा है. भारत-भूटान का विकास भागीदार है और देश से जलविद्युत खरीदता है. यह शेष विश्व के लिए रणनीतिक संदेश है कि भारत और भूटान के संबंध मजबूत हैं.

अपनी यात्रा के दूसरे दिन, मोदी राष्ट्रीय मेमोरियल चोर्टेन जाने वाले हैं. वह एक बौद्ध मठ में उनके सम्मान में आयोजित सांस्कृतिक प्रदर्शन में भी शामिल होंगे.

प्रधानमंत्री भूटान के रॉयल विश्वविद्यालय में छात्रों को संबोधित करेंगे.

अपनी द्विपक्षीय व्यस्तताओं को पूरा करने के बाद, मोदी रविवार को पारो से नई दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे.