Hindi Newsportal

बीजापुर हमला: नक्सलियों ने जारी की CRPF जवान की तस्वीर

0 559

छत्तीसगढ़ के बीजापुर के तररेम में बीते शनिवार को हुई नक्सली मुठभेड़ में भारत ने अपने 22 जवान खो दिए जबकि एक जवान इस पूरे एनकाउंटर में अभी भी लापता है। वहीं दूसरी और, एक जवान राकेश्वर सिंह मन्हास को नक्सलियों ने अगवा कर लिया है। इस बात की की पुष्टि पर मोहर उस वक़्त लग गई जब नक्सलियों ने एक प्रेस नोट जारी कर दी । अब उनके पास अगवा जवान को रिहा करने के लिए नक्सली भारत सरकार के सामने एक शर्त रखना चाहते है। नक्सलियों का वादा है कि अगर सरकार कि अगर सरकार कि तरफ से कोई मध्यस्थता को आये और उनकी शर्तों को माने तो वो उनके पास जो जवान है उसको रिहा कर देंगे।

इधर इस नक्सली मुठभेड़ के बाद से लापता सीआरपीएफ जवान राकेश्वर सिंह मनहास की तस्वीर सामने आई है। सीआरपीएफ कमांडो राकेश्वर सिंह की फोटो जारी कर नक्सलियों ने दावा किया है कि जवान सुरक्षित है. इससे पहले नक्सलियों ने कुछ स्थानीय मीडियाकर्मियों को एक पत्र जारी कर कहा था कि लापात जवान उनके कब्जे है।

क्या है प्रेस नोट में ?

मिली जानकारी के मुताबिक एक प्रेस नोट के जरिए नक्सलियों ने सरकार से मध्यस्थता करने की बात कही है। इसके लिए वे सरकार पर मध्यस्थता करने वाले के नाम तय करने का दबाव बना रहे हैं। वहीं, बातचीत होने के बाद जवान को रिहा करने की भी बातचीत कर रहे हैं। ख़ास बात ये है कि प्रेस नोट में यह भी दावा किया गया है कि जब तक सरकार से बातचीत नहीं होती है, तब तक जवान को रिहा नहीं किया जाएगा।

ये भी पढ़े : COVID-19 LIVE | कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, बीते 24 घंटे में मिले 1.15 लाख नए मरीज; 630 लोगों की मौत, दिल्ली HC ने कार में भी मास्क पहनना किया अनिवार्य

नोट में हमले की भी है जानकारी।

दो पेज के पत्र में कहा गया है, ‘बीजापुर हमले में 24 सुरक्षाकर्मियों की जान गई, 31 घायल हुए, 1 हिरासत में है। पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी के 4 जवानों की जान चली गई। हम सरकार से बातचीत को तैयार हैं। वे मध्यस्थों की घोषणा कर सकते हैं। हम उसे रिहा कर देंगे। जवान हमारे दुश्मन नहीं।

इन सब के बीच बीजापुर के पत्रकार गणेश मिश्रा ने बताया, ‘मुझे नक्सलियों की तरफ से दो बार फोन आया कि एक जवान उनकी हिरासत में है। उन्होंने कहा कि जवान को गोली लगी है और उसका इलाज किया गया है। उसे 2 दिनों में रिहा कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जवान का एक वीडियो और फोटो जल्द ही जारी किया जाएगा।

क्या कहना है CRPF का ?

इस बीच केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के महानिदेशक कुलदीप सिंह का कहना है कि अगवा जवान की रिहाई के लिए पुलिस चौतरफा प्रयास कर रही है। बस्तर आइजी सुंदरराज पी ने बताया कि मीडिया समेत गांव के मध्यस्थों को इस काम में लगाया गया है। इलाके की सघन तलाशी भी ली जा रही है। अभी जवान की लोकेशन का पता नहीं चला है, पर जल्द ही उसे रिहा करा लेंगे।

31 जवानों का अब भी चल रहा इलाज।

तररेम में हुई मुठभेड़ में 31 जवान घायल हुए हैं। इनमें 7 का इलाज राजधानी रायपुर और 23 का इलाज बीजापुर में किया जा रहा है। बता दे, मुठभेड़ में शहीद हुए जवानों को सोमवार को जगदलपुर में श्रद्धांजलि दी गई थी।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram