Hindi Newsportal

फैक्ट चेक : मस्जिद में नमाज़ पढ़ रहे इस सिख व्यक्ति की तस्वीर का जानें सच

0 356

देश की राजधानी में तीन किसान बिल के विरोध में चल रहे प्रदर्शन के बीच सोशल मीडिया पर कई फेक खबरे वायरल हो रही है। इसी क्रम में एक पोस्ट वायरल हो रहा है। इस तस्वीर में एक सिख आदमी को देखा जा सकता है जो मस्जिद में नमाज़ अदा कर रहा है।

इस वायरल पिक्चर के साथ कैप्शन भी लिखा गया है। कैप्शन में लिखा है – जल्दबाज़ी में अपनी टोपी ही लगाना भूल गया। #किसानआंदोलन
कैप्शन में ये भी लिखा है – ये फेक किसान अपनी फेक टर्बन (यानी पगड़ी) निकालना ही भूल गया और नमाज़ पड़ते वक़्त अपनी इस्लामिक टोपी भी नहीं पहनी। #फेककिसानआंदोलन

वायरल पोस्ट को आप यहाँ और यहाँ देख सकते है।

फैक्ट चेक :

न्यूज़मोबाइल ने इस दावे की जाँच की और पाया कि यह भ्रामक है।

फोटोग्राफ की उत्पत्ति यानी (Origin) का पता लगाने के लिए, हमने पहले इसे Google पर Reverse Image Search के माध्यम से चलाया और यह चित्र हमे सिख जागरूकता. कॉम नामक वेबसाइट पर मिला।

ये भी पढ़े : फैक्ट चेक : क्या JIO की 5G टेस्टिंग की वजह से मर रही है चिड़ियाएं, जानें सच

यह तस्वीर हमे वेबसाइट के कमेंट सेक्शन में थी, जहां एक उपयोगकर्ता यानी यूजर ने इस तस्वीर को 2019 में पोस्ट किया था, जो किसी के फेसबुक प्रोफाइल का स्क्रीनशॉट था।

यहां से हमें अपना पहला सुराग मिला कि ये तस्वीर हाल के विरोधों से तो बिलकुल नहीं थी क्युकी ये 2019 में ही पोस्ट की जा चुकी थी।

डबल-चेक करने के लिए, हमने तब फेसबुक पर Shaykh Mohammed Aslam की प्रोफ़ाइल खोजी और पाया कि इस पोस्ट को 31 जनवरी,2016 में पोस्ट किया गया था यानी (5 साल पहले)।

पोस्ट में लिखा गया था, “इस सिख व्यक्ति ने जुम्मे के दिन मस्जिद में प्रवेश किया, वुधु प्रदर्शन किया, और सबको चौकते हुए अल्लाहु अकबर कहा। और तो और इसने सभी के सामने प्रार्थना भी की”। अल्लाह इस खूबसूरत धर्म को दुनिया भर में फैलाते रहे।

फेसबुक पर एक और कीवर्ड सर्च करने पर हमने पाया कि इसी तरह की तस्वीरों को अन्य पेजों द्वारा भी साझा किया गया था।

‘इंडियन मुस्लिम की आवाज़’ नामक इस पेज ने 23 जनवरी 2016 को इसी पिक्चर को साझा किया था, साथ ही इसी जगह की इसी व्यक्ति की एक और तस्वीर भी थी।

 

इतनी जानकारी से हम ये तो दावा कर सकते है कि इस तस्वीर का हाल ही में चल रहे किसान प्रदर्शन से कोई नाता नहीं है और इसे किसान प्रदर्शन से जोड़ के भ्रामक बनाया गया है। इसके अलावा न्यूज़मोबाइल स्वतंत्र रूप से चित्र की उत्पत्ति यानी (Origin) और स्थान का पता नहीं लगा सका।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 11 7127 9799 पर व्हाट्सएप करें।