Hindi Newsportal

फैक्ट चेक : क्या JIO की 5G टेस्टिंग की वजह से मर रही है चिड़ियाएं, जानें सच

0 538

भारत देश में हाल ही में घातक बर्ड फ्लू ने दस्तक दे दी है। इसी बर्ड फ्लू की वजह से मचे हड़कंप के बीच सोशल मीडिया पर एक दावा वायरल हो रहा है। बर्ड फ्लू पर इस खबर में दावा किया जा रहा है कि देश में जियो के 5G टेस्टिंग की वजह से चिड़िया मर रही है। इतना ही नहीं पोस्ट में ये भी दावा किया जा रहा है कि इसी की वजह से भारत में बर्ड फ्लू फैल रहा है।

फेसबुक पर वायरल मैसेज को इस कैप्शन के साथ साझा किया जा रहा है – “JIO की 5 G टेस्टिंग के कारण देश में पक्षी मर रहे हैं और लोगों को बेवकूफ बनाया जा रहा है कि बर्ड फ्लू फैल रहा है”

अंग्रेजी में ट्रांसलेशन – (Birds are dying due to Jio’s 5G testing and people are being fooled that its bird flu)

ऐसे ही कुछ अन्य फेसबुक पोस्ट आप यहाँ, यहाँ, और यहाँ देख सकते हैं।

हमें ट्विटर पर भी इसी तरह के पोस्ट मिले। ट्विटर पर इस तरह के पोस्ट आप यहाँ, यहाँ और यहाँ देख सकते है।

फैक्ट चेक :

न्यूज़मोबाइल ने इस दावे की जाँच की और पाया कि ये फेक है।

सच जानने के लिए हमने एक खोज की तो हमे पता चला कि भारत सरकार ने अभी तक किसी भी दूरसंचार कंपनी को देश में 5 जी तकनीक का परीक्षण करने की अनुमति नहीं दी है। फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, 16 दिसंबर 2020 को केंद्रीय आईटी और दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दिसंबर 2020 में कहा था कि 5 जी तकनीक के लिए बहुप्रतीक्षित परीक्षण जल्द ही शुरू किया जायेगा।

ये भी पढ़े : फैक्ट चेक: दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर किसान प्रदर्शन की इस तस्वीर का जानें सच

इसके अलावा हमे 23 दिसंबर, 2020 को बिजनेस टुडे द्वारा प्रकाशित एक और रिपोर्ट मिली, जिसमें कहा गया है कि भारत सरकार अभी भी 5G परीक्षणों यानी (टेस्टिंग) पर विचार कर रही है, जबकि चीन, दक्षिण कोरिया और अमेरिका जैसे देशों ने 5G का इस्तेमाल भी शुरू कर दिया है।

इसके अलावा, CNBC TV 18 की एक रिपोर्ट के अनुसार, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने पिछले साल जुलाई में RIL की 43 वीं वार्षिक आम बैठक में कहा था, “जियो विश्व स्तरीय 5G समाधान के साथ तैयार है। फील्ड तैनाती (Field deployment) अगले साल हो सकती है। स्पेक्ट्रम उपलब्ध होते ही यह 5G उत्पाद (5G Product ) परीक्षण यानी ट्रायल्स के लिए उपलब्ध होगा।

इसके साथ ही, हमें ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं मिली जो यह पुष्टि करती हो कि 5G नेटवर्क पक्षियों की मौत का कारण है। बता दे दुनिया के ऐसे कई देश है जो 5G का इस्तेमाल करते है लेकिन वह भी ऐसी कोई पुष्टि नहीं हुई है।

गौरतलब है कि देश में फिलहाल बर्ड फ्लू का कहर जारी है लेकिन प्रदेश और केंद्र सरकार दोनों ही इसकी रोकथाम के लिए सारे ज़रूरी कदम उठा रहे है।

इसीलिए हम दावा कर सकते है कि सोशल मीडिया पर ये दावा भ्रामक और फेक है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 11 7127 9799 पर व्हाट्सएप करें।