Hindi Newsportal

फैक्ट चेक : क्या नारियल पानी को गर्म करके पीने से ठीक होता है कैंसर? जानें सच

0 499

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक पोस्ट वायरल हो रही है, जिसमें टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के डॉक्टर राजेंद्र ए बादवे के हवाले से यह दावा किया जा रहा है कि नारियल पानी को गर्म करके पीने से कैंसर के सेल (Cell) मर जाते हैं। वायरल पोस्ट में दावा किया गया है कि गर्म नारियल पानी में से एंटी कैंसर सब्सटेंस (substance) निकलता है और यह सिस्ट, ट्यूमर व हर तरह के कैंसर के लिए लाभकारी साबित हो चुका है।

फेसबुक पर एक यूज़र ने इस पोस्ट को शेयर करते हुए लिखा – टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के डॉक्टर राजेंद्र ए बादवे कहते हैं कि गर्म नारियल पानी पीने से हर तरह के कैंसर के सेल मर जाते हैं। नारियल की दो से तीन पतली कतरने एक कप में लें और इसमें गर्म पानी मिलाएं, यह अल्कलाइन वाटर बन जाएगा, इसे रोजाना पिएं। गर्म नारियल पानी से एंटी कैंसर सब्सटेंस निकलता है, ​जिससे सिस्ट, ट्यूमर्स व हर तरह के कैंसर का इलाज होता है, यह साबित हो चुका हे। इस उपचार से केवल कैंसर के सेल मरते हैं और हेल्दी सेल नहीं मरते। यही नहीं नारियल जूस में मौजूद अमीनो एसिड और कोकोनट पोलीफिनॉल ब्लड प्रेशर को बढ़ाता है, इससे ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है और ब्लड क्लॉट्स कम होते हैं। इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाएं। इस मैसेज को पढ़ने के बाद इसे अपने दोस्तों, परिवार और परिजनों तक ज़रूर पहुँचाये। मैंने अपना काम कर दिया है। आप भी इस मैसेज को फॉरवर्ड कर के अपना काम पूरा करे।

इस पोस्ट का लिंक आप यहाँ देख सकते है।

इसी तरह के और भी पोस्ट आप यहाँ, और यहाँ देख सकते है।

फैक्ट चेक 

न्यूज़मोबाइल ने इस पोस्ट की जांच की और पाया कि ये फेक है।

ये भी पढ़े : फैक्ट चेक : क्या केंद्र सरकार युवाओं को दे रही है बेरोज़गारी भत्ता ? जानें सच

सबसे पहले हमने इस दावे के बारे में सच जानने के लिए कुछ कीवर्ड्स के साथ एक खोज की। इस खोज में हमे टाइम्स ऑफ़ इंडिया की 2019 की कुछ रिपोर्ट्स मिली। 18 मई 2019 की इस रिपोर्ट में टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल की तरफ से स्पष्टीकरण छापा गया था। इस स्पष्टीकरण में हॉस्टिपल ने यह साफ किया था कि उनके डायरेक्टर डॉ. राजेंद्र बादवे ने ऐसा कोई दावा नहीं किया है। साथ ही यह भी कहा गया कि ऐसे कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं हैं, जिनसे यह साबित होता हो कि गर्म नारियल पानी पीने से कैंसर के सेल मर जाते हैं।

आगे और जांच करने पर हमें 17 मई 2019 का द हिंदू अखबार का एक और आर्टिकल मिला। इसके मुताबिक भारतीय आन्कोलॉजिस्ट (Oncologist) सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे कैंसर के अवैज्ञानिक, चमत्कारिक इलाज के दावे से लोगों को बचने की सलाह दे रहे है। बता दे कैंसर कि रोकथाम, निदान और उपचार के साथ संबंधित शाखा को ‘Oncology’ कहते है। वह व्यक्ति जो इस डिपार्टमेंट में काम करता है उसे oncologist कहते है।

हिंदू अखबार की इस रिपोर्ट में भी टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल की तरफ से स्पष्टीकरण छापा गया था की अस्पताल ने कैंसर ठीक होने को लेकर ऐसा कोई वायरल दावा नहीं किया है।

डॉ बडवे (Dr. Badwe) ने इस रिपोर्ट में द हिंदू से कहा – यह दूसरी बार है जब संस्थान ने सोशल मीडिया संदेश पर आधिकारिक स्पष्टीकरण जारी किया है। पिछले साल यानी 2018 में भी, व्हाट्सएप पर एक नकली स्वास्थ्य चेतावनी जारी की गयी थी कि काली ब्रा पहनने से स्तन कैंसर का खतरा होता है। यह अक्सर दोहराया जा रहा है। हमें लगा कि यह स्पष्ट करना हमारे लिए आवश्यक है। डॉ बडवे ने आगे कहा कि सोशल मीडिया चिकित्सा उपचार और समाधान पर चर्चा की जगह नहीं है।

आगे और जांच करने पर हमे ऐसी ही एक और रिपोर्ट हिंदुस्तान टाइम्स की भी मिली जिसमें 2019 में ही अस्पताल ने इस फेक दावे को खारिज कर दिया था।

आगे और खोज करने पर हमें टाटा मेमोरियल सेंटर की ओर से 16 मई 2019 को जारी प्रेस रिलीज मिली, जिसके नीचे डॉ. बादवे के हस्ताक्षर भी मिले।

This message has been circulating on social media and our patients are asking us if this is true. Thank you Dr Badwe,…

Posted by Campaign against Nutrition Quacks and Courses on Thursday, 16 May 2019

इतनी मिली जानकारी और रिपोर्ट से ये तो साबित है की टाटा मेमोरियल सेंटर की ओर से या इस अस्पताल के किसी डॉक्टर से ये दावा नहीं किया गया था कि गर्म नारियल पानी पीने से कैंसर के सेल मर जाते है। लेकिन फिर भी हमने एक जांच ये जानने के लिए की, कि कहीं ऐसी कोई दूसरी स्टडी तो नहीं जो यह कहती हो कि नारियल पानी कैंसर सेल्स को मारता है।

हमें ‘यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन नेशनल इंस्टिट्यूट्स ऑफ हेल्थ’ की एक रिसर्च मिली। इस रिसर्च पेपर में कहा गया है कि नारियल पानी और विनेगर्स (सिरका) में ऐंटी-ट्यूमर और इम्यूनोस्टिम्यूलेट्री (इम्यून के रिस्पॉन्स को बढ़ाने वाला) असर होता है। हालांकि, अभी इन दोनों असर का परीक्षण होना बाकी है। नारियल पानी के अपने फायदे हैं लेकिन कहीं भी इस बात का जिक्र नहीं है कि गर्म नारियल पानी कैंसर सेल्स को मार सकता है।

आगे और जांच करने पर हमें ऐसी कई रिपोर्ट्स मिली जिसमें इस बात का उल्लेख था कि कैंसर से बचा जा सकता है और साथ ही कुछ कैंसर का कुछ स्टेज में इलाज संभव है लेकिन अभी तक कैंसर के पूर्ण इलाज की न तो पुष्टि हुई है और न ही अभी तक ऐसी कोई दवा आई है।

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी की एक रिपोर्ट में भी इस बात का उल्लेख किया गया है।

इतनी जानकारी से हम दावा कर सकते है कि गर्म नारियल पानी पीने से कैंसर सेल ठीक होने के कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं मिले हैं और न ही टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. राजेंद्र बादवे ने ऐसा दावा किया है कि रोजाना गर्म नारियल पानी पीने से हर तरह का कैंसर ठीक होता है। इसीलिए हम कह सकते है की वायरल पोस्ट में किया गया हर दावा फेक है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 11 7127 9799 पर व्हाट्सएप करें