Hindi Newsportal

फैक्ट चेक : क्या गणतंत्र दिवस पर हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस के 200 कर्मियों ने दिया इस्तीफा, जानें सच

0 286

राष्ट्रीय राजधानी में गणतंत्र दिवस के दिन किसान प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा के बाद सोशल मीडिया पर एक मैसेज इस दावे के साथ साझा किया जा रहा है कि गणतंत्र दिवस हिंसा के बाद 200 पुलिस ने विद्रोह के रूप में पुलिस बल से इस्तीफा दे दिया है।

एक फेसबुक उपयोगकर्ता यानी यूजर ने इस पंजाबी कैप्शन के साथ पोस्ट साझा किया, “ਦਿੱਲੀ ਪੁਲਸ ਚ ਬਗਾਵਤ। 200 ਪੁਲਸਕਰਮੀਆਂ ਨੇ ਦਿੱਤਾ ਮਹਿਕਮੇ ਚੋਂ ਅਸਤੀਫ਼ਾ । ਸੇਅਰ ਜਰੂਰ ਕਰੋ”

ट्रांसलेशन यानी अनुवाद – “दिल्ली पुलिस में विद्रोह। विभाग से 200 पुलिसकर्मियों का इस्तीफा”

उपरोक्त पोस्ट का लिंक आप यहाँ,देख सकते है। इसी तरह के अन्य पोस्ट आप यहाँ, यहाँ और यहाँ देख सकते है।

हमें ट्विटर पर भी इसी तरह के कई पोस्ट मिले।

यहां उपरोक्त ट्विटर पोस्ट का लिंक दिया गया है। इसी तरह के अन्य ट्विटर पोस्ट आप यहाँ, यहाँ और यहाँ देख सकते है।

फैक्ट चेक :

न्यूज़मोबाइल ने इस दावे की जाँच की और इसे झूठा पाया।

फैक्ट चेक: क्या पुलिस क्रूरता की ये तस्वीर दिल्ली की है? जानें सच

सबसे पहले, इस वायरल मैसेज के कुछ कीवर्ड के साथ, हमने एक गूगल खोज चलाई लेकिन इस दावे के संबंध में हमे कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली।

इसके बाद,हमने इस वायरल मैसेज के साथ साझा की जा रही तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च के माध्यम से चलाया तो हमे हिन्दुस्तान टाइम्स द्वारा एक लेख मिला जो जून 2018 को प्रकाशित हुआ था। हिन्दुस्तान टाइम्स में इसी इमेज के साथ कैप्शन लिखा था – आठ लोगों को कथित तौर पर एक जोड़े पर हमला करने के आरोप में नामांकित किया गया है। इस इमेज का क्रेडिट समाचार एजेंसी पीटीआई को दिया गया था।

सोशल मीडिया पर वायरल यही छवि हमे इंडिया टीवी के एक आर्टिकल में भी मिली।

आगे और जांच करने पर हमे, सरकार की नोडल एजेंसी, पीआईबी द्वारा उसी पोस्ट का FC मिला, जिसमें PIB ने इसी दावे को खारिज किया था।

इसीलिए हम दावा कर सकते है कि सोशल मीडिया पर ये पोस्ट कि, ‘गणतंत्र दिवस हिंसा के बाद 200 पुलिस ने विद्रोह के रूप में पुलिस बल से इस्तीफा दे दिया है’ ये भ्रामक है और फेक है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 11 7127 9799 पर व्हाट्सएप करें।