Hindi Newsportal

फैक्ट चेक : क्या किसानों ने तीन कृषि कानून के विरोध में आरएसएस के मुख्यालय पर बोला धावा ? जानें सच

0 297

सोशल मीडिया पर एक वीडियो साझा किया जा रहा है जिसमें दावा किया गया है कि किसानों ने नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानी (आरएसएस) के मुख्यालय पर तीन नए कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन किया।

एक फेसबुक उपयोगकर्ता यानी यूजर ने एक हिंदी कैप्शन के साथ वीडियो साझा किया और लिखा, “अचानक RSS मुख्यालय पर किसानों ने धावा बोल दिया और फिर बवाल हो गया !!”

(ट्रांसलेशन: Farmers have suddenly stormed the RSS headquarters, following which a ruckus erupted!!)

उपरोक्त पोस्ट का लिंक आप यहां देख सकते है और इसी तरह के पोस्ट आप यहां , यहां और यहां भी देख सकते हैं।

हमें यूट्यूब पर भी वही वीडियो मिला, जिसे ऑनलाइन न्यूज़ मीडिया नाम के एक चैनल ने साझा किया था।

फैक्ट चेक :

न्यूज़मोबाइल ने इस वीडियो की जाँच की और पाया कि ये वीडियो फेक और भ्रामक है।

ये भी पढ़े : फैक्ट चेक : मस्जिद में नमाज़ पढ़ रहे इस सिख व्यक्ति की तस्वीर का जानें सच

सबसे पहले, हमने वीडियो को करीब से देखने तो हमने गौर किया कि लोग इस वीडियो में कांग्रेस पार्टी और यूथ कांग्रेस के झंडे पकड़े हुए है।

इसके अलावा, इस वीडियो में हमें एक व्यक्ति दिखा जिसके हाथ में एक बोर्ड था। बोर्ड में लिखाथा – “नागपुर सिटी, युथ कांग्रेस”। इसलिए, यह स्पष्ट तो है कि वीडियो में लोग किसान नहीं हैं बल्कि कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता हैं।

आगे और जांच करने पर,हमें इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट मिली जिसमें कहा गया था कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने 12 जनवरी को रेशमबाग क्षेत्र में हेडगेवार स्मृति भवन परिसर के बाहर नए कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन किया था, जिसके बाद अनलॉफुल असेंबली (Unlawful Assembly) और अन्य अपराधों के लिए उन सब के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था।

इसके अलावा हमें NDTV इंडिया द्वारा इसी मुद्दे पर एक लेख यानी आर्टिकल भी मिला – जिसके टाइटल था -“RSS मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन करने को लेकर कांगेस कार्यकर्ताओं के विरूद्ध मामला दर्ज”

अंग्रेजी में ट्रांसलेशन – (Case against Congress workers for protesting outside RSS premises)

अपने रिसर्च के दौरान, हमें भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का एक ट्वीट भी मिला, जिसमें उन्होंने अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं से आग्रह किया था कि वे बीजेपी सांसदों के खिलाफ बर्तन बजा कर अपना विरोध प्रदर्शित करे।

इतनी जानकारी की मदद से हम दावा कर सकते है कि सोशल मीडिया पर ये वायरल वीडियो किसान प्रदर्शन का नहीं बल्कि RSS मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन करने वाले कांगेस कार्यकर्ताओं का है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 11 7127 9799 पर व्हाट्सएप करें।