Hindi Newsportal

पहलू खान लिंचिंग मामला: आरोपियों के बरी होने पर हरकत में आये मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत, SIT को सौंपी जांच

0 311

पहलू खान लिंचिंग मामले में अलवर की अदालत द्वारा सभी आरोपियों को बरी करने के फैसले के बाद अब राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत हरकत में नज़र आ रहे हैं.

सीएम अशोक गहलोत ने इस मामले की जांच को लेकर एसआईटी का गठन किया है. सीएम ने अगले 15 दिनों में इस मामले को लेकर रिपोर्ट भी मांगी है.

इस मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी अपनी जांच रिपोर्ट 15 दिन में राज्य सरकार को सौंप देगी. एसआईटी का प्रमुख स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के डीआईजी नितिन देव को बनाया गया है, जबकि राज्य के एडीजी क्राइम बीएल सोनी जांच पर नजर रखेंगे.

एसआईटी में सीबीसीआईडी के एसपी समीर कुमार सिंह भी हैं. एसआईटी मुख्य रूप से पहलू खान मॉब लिंचिंग केस की जांच में खामियों और मिलीभगत कर आरोपियों के बचाने वाले अधिकारियों की पहचान करेगी.

ALSO READ: भूटान आगमन पर पीएम मोदी को किया गया गार्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित, दो दिवसीय दौरे पर गए…

बता दें कि पहलू ख़ान की हत्या के मामले में अलवर ज़िला न्यायालय ने अपना फैसला सुना दिया था. अदालत ने मामले के सभी आरोपियों को बरी कर दिया है.

प्रियंका गांधी द्वारा पहलू खान के मामले में ट्वीट किए जाने के बाद राजस्थान सरकार हरकत में आई. सरकार ने आरोपियों के बरी होने की फाइल मंगवाकर विधि विभाग से हाईकोर्ट में अपील करने की अनुशंसा कर भिजवा दी है. सोमवार को कोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील भी की जाएगी.

साल 2017 में भीड़ ने गो-तस्करी के शक में पहलू खान की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. कोर्ट ने इस मामले में सभी आरोपियों को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था.

एक अप्रैल 2017 को हरियाणा के नूंह मेवात ज़िले का निवासी पहलू ख़ान जयपुर से दो गाय खरीद कर अपने घर ले जा रहा था.