Hindi Newsportal

ग्वालियर में दर्दनाक सड़क हादसा; आटो रिक्शा और बस की टक्कर में 13 की मौत, आरटीओ सस्पेंड, मुआवजे का ऐलान

0 302

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में बड़ा हादसा सामने आया है। दरअसल ग्वालियर के पुरानी छावनी थाना क्षेत्र के आनंदपुर ट्रस्ट के सामने ऑटो और बस की ज़ोरदार टक्कर में 13 लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में 12 महिलाएं और ऑटो ड्राइवर शामिल है। बता दे ये हादसा उस वक़्त हुआ है जब महिलाएं पुरानी छावनी स्टोन पार्क स्थित पोषण आहार के किचन से काम करके लौट रही थीं।

दो दर्जन से ज़्यादा घायल।

तेज रफ्तार बस द्वारा ऑटो को पड़ी टक्कर में ऑटो सवार ज्यादातर लोगों की मौत हो गई है। वहीं, दो दर्जन के लोग इस हादसे में घायल हुए हैं। इस हादसे के बाद प्रशासन की टीम मौके पर पहुंच गई और सभी घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया है। इन सब के बीच प्रत्यक्षदर्शियोंका कहना है कि ऑटो बामोर की तरफ जा रही थी और बस ग्वालियर की ओर आ रही थी। मृतकों में अधिकांश महिलाएं हैं। फिलहाल मौके पर राहत और बचाव कार्य जारी है।

जानें कब और कैसे हुआ हादसा।

जानकारी के मुताबिक हादसे में मरने वाली इन महिलाओं काे पाेषण आहार ठेकेदार ने मंगल दिवस पर खाना बनाने के लिए ठेकेदार ने बुलाया था। महिलाएं दो आटो रिक्शा में वापस घर लौट रही थीं, लेकिन एक आटो रास्ते में खराब हो गया और ये सभी एक ही रिक्शा में सवार हो गईं। इसके बाद बाद आगे चलकर वाहन एक बस से टकरा गया। हादसे के बाद कुछ घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। एसपी अमित संघी ने हादसे में 13 लोगों की मौत की पुष्टि की है।

कहाँ हुआ हादसा ?

हादसा आनंदपुरम ट्रेस्ट के सामने हुए, आटो रिक्शा ग्वालियर से जा रहा था और बस मुरार से आ रही थी। घटना से आक्रोशित लोगों ने रास्ते पर चक्काजाम भी कर दिया। शवों को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेजा गया है, जहां मृतकों के परिजनों की भीड़ लग गई है।

ये भी पढ़े : शहीद दिवस: भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को आज याद कर रहा है देश

चार-चार लाख मुआवजे का ऐलान।

वहीं, घटना पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने दुख व्यक्त किया है। उन्होंने मृतक के परिजनों के लिए चार-चार लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री ने सभी घायलों के जल्द स्वस्थ होने की भी कामना की है। साथ ही पीड़ितों को हर संभव मदद पहुंचाने का आश्वासन दिया है।

परिजनों की माँगा – बढ़ाई जाये मुआवज़े की राशि।

इधर परिजन आर्थिक सहायता की राशि से संतुष्ट नहीं है, उनकी मांग है कि मुआवजा राशि दस-दस लाख की जाए और परिवार के एक सदस्य काे नाैकरी दी जाए। गुस्साए स्वजनाें ने पीएम हाउस से शव ले जाने से भी इंकार कर दिया है और धरने पर बैठ गए हैं। फिलहाल प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी स्वजनाें काे समझाने में जुटे हुए हैं।

RTO हुआ ससपेंड।

इस घटना के बाद परिवहन मंत्री गाेविंद सिंह ने RTO काे सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए हैं।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram