Hindi Newsportal

गुरुग्राम में लाॅकडाउन का रहा सकारात्मक असर, कोरोना पॉजिटिविटी रेट घटकर हुआ 1.63 %

NM photo by Prashant Tamta (file image)
0 135

प्रदेश सरकार के प्रयासों व जिला प्रशासन की बेहतर कार्ययोजना के साथ जिलावासियों के सहयोग से अब गुरुग्राम जिला में कोरोना दम तोड़ता नजर आ रहा है। अप्रैल माह के अंत में कोरोना संक्रमण काफी बढ़ता जा रहा था। यह दौर समाज में हर व्यक्ति के लिए बहुत ही संघर्षपूर्ण रहा, विशेषकर उन लोगों के लिए अधिक जो स्वयं कोरोना संक्रमण का शिकार हुए। चारो तरफ नकारात्मकता व डर का माहौल था क्योंकि किसी ना किसी का नजदीकी संक्रमण का शिकार हुआ। ऐसे में सरकार के लिए इसे नियंत्रित करना अत्यंत चुनौतीपूर्ण विषय था, विशेषकर दिल्ली एनसीआर में स्थिति गंभीर थी। दिल्ली से सटे होने के कारण गुरुग्राम जिला में कोरोना संक्रमित मामलों की संख्या तेजी से बढ़ रही थी।

राज्य सरकार ने कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने के लिए शुरू में गुरुग्राम सहित हरियाणा प्रदेश के 9 जिलों में वीकेंड लाकडाउन लगाने का निर्णय लिया। 30 अप्रैल को सरकार ने 2 दिन के लिए सप्ताहंत लाॅकडाउन लगाया। उस दिन गुरूग्राम का पाॅजीटिविटी रेट 34.9 प्रतिशत था और 24 घंटे में 4435 एक्टिव केस थे। डबलिंग रेट 23.35 दिनों का था और कोरोना संक्रमण का ग्रोथ रेट 3.60 प्रतिशत था। उस समय जिला का रिकवरी रेट 69.76% था ।

इस संक्रमण की दर को कम करने के लिए प्रदेश सरकार के दिशा-निर्देशानुसार एक्शन प्लान बनाया गया । इसके बाद प्रदेश सरकार ने 3 मई से पूरे हरियाणा प्रदेश में एक सप्ताह का लाॅकडाउन लगाया। इसके बाद इसे स्थिति अनुसार एक एक सप्ताह के लिए बढ़ाया जा रहा है। लाॅकडाउन लगाने से कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने में कामयाबी मिली क्योंकि ये आदेश थे कि जब तक बहुत जरूरी ना हो, कोई भी व्यक्ति अपने घरों से बाहर ना निकले।

इसके फलस्वरूप कोरोना संक्रमण की रफतार पर कुछ दिनों में ब्रेक भी लगा। अब पिछले 32 दिन से गुरुग्राम जिला में लॉक डाउन लागू है, जिसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। अब आंकड़ों पर नजर डाले तो पहली जून का पाॅजीटिविटी रेट घटकर 1.63 % तक पहुंच गया है और 24 घंटे के एक्टिव केस भी घटकर 86 रह गए हैं। इसी प्रकार, अब रिकवरी रेट का आंकड़ा भी बढ़कर 98.79 प्रतिशत हो गया है।

उपायुक्त डा. यश गर्ग ने कहा है कि सभी जिला वासियों के सहयोग से गुरुग्राम जिला में कोरोना संक्रमण की दर कम हुई है जो कि सभी के लिए संतोषजनक बात है। उन्होंने कहा कि बेशक अब कोरोना के मामले कम आ रहे हैं लेकिन हमें सावधानी बरतनी जारी रखनी है।

डा. गर्ग ने कहा कि लोग स्वयं कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन करे, यह सभी के हित में है। उन्होंने स्वास्थ्यकर्मियों के सेवाभाव से किए जा रहे कार्यों की भी सराहना की और कहा कि वे लोगों को जरूरत अनुसार उनके घर तक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवा रहे है। उन्होंने बताया कि जिला में कोरोना संक्रमण को लेकर लोगों में पहले की अपेक्षा जागरूकता बढ़ी है। जिला में कोरोना संक्रमित मरीज अब घर रहकर भी ठीक हो रहे हैं। सोशल मीडिया के माध्यम से भी

जिला प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमण संबंधी आवश्यक जानकारी सांझा की जा रही है। गंभीर रूप से संक्रमित मरीज वैबसाईट – Https://onemapggm.gmda.gov.in कोविड अपडेट प्राप्त कर सकते हैं और अस्पताल में दाखिल होने के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

उन्होंने आमजन से अपील करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव का एकमात्र उपाय कोविड अप्रोप्रिएट बिहेवियर तथा कोरोनारोधी टीकाकरण है। इसलिए लोग जल्द ही अपना टीकाकरण करवाएं ताकि कोरोना संक्रमण को खत्म किया जा सके।

वैक्सीनेशन के बाद भी लोग एक दूसरे से उचित दूरी बनाए रखें और फेस मास्क का प्रयोग करते रहें । जहां तक संभव हो लोग घर में रहें और जब तक बहुत जरूरी ना हो घरों से ना निकले। लोग अपने हाथों को साबुन से धोते रहे और यदि ऐसा संभव ना हो तो सेनिटाइजर का इस्तेमाल अवश्य करें।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram