Hindi Newsportal

RBI ने लगातार पांचवीं बार की रेपो रेट में बढ़ोतरी

0 311

RBI MPC December Meet: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने आज अपनी मौद्रिक नीति समिति (Monetary Policy) की बैठक में फैसलों का ऐलान कर दिया है. केंद्रीय बैंक ने एक बार फिर रेपो रेट में 30 बेसिस प्वॉइंट या 0.35 प्रतिशत का इजाफा कर दिया है. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने इस बात की जानकारी दी.

 

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने आज एक बार फिर रेपो रेट में बढ़ोतरी की जिसके बाद अब रेपो रेट 5.90% से बढ़कर 6.25% हो गई है. रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने देश में लगातार बढ़ती महंगाई पर काबू पाने के लिए यह कदम उठाया है. यह लगातार पांचवीं बार है जब इस साल RBI ने रेपो रेट बढ़ाया है.

 

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने आगे बताया कि अगले 12 महीनों में मुद्रास्फीति दर 4% से ऊपर रहने की उम्मीद है. वहीं FY23 के लिए CPI मुद्रास्फीति का पूर्वानुमान 6.7% पर बरकरार है.

 

आरबीआई गवर्नर ने आगे कहा कि, एफडीआई प्रवाह अप्रैल से अक्टूबर 2022 में बढ़कर 22.7 अरब डॉलर हो गया, जो पिछले साल की इसी अवधि में 21.3 अरब डॉलर था. अप्रैल-अक्टूबर के दौरान भारतीय रुपए में वास्तविक रूप से 3.2% की वृद्धि हुई है, जबकि अन्य प्रमुख मुद्राओं में गिरावट आई है.

 

आपको बता दें कि, रेपो रेट (Repo Rate) वह दर है, जिसपर आरबीआई (RBI) बैंकों को लोन देता है. इसलिए अगर रेपो रेट में बढ़ोतरी होती है तो लोन की ब्याज दर भी बढ़ जाती है. जबकि इसके विपरीत रेपो रेट में कटौती से लोन की ब्याज दर भी कम हो जाती है.