Hindi Newsportal

11 राज्यों की 59 सीटों पर हुए विधानसभा उपचुनाव, 41 सीटों पर बीजेपी ने मारी बाज़ी

File Image
0 459

मंगलवार को बिहार विधानसभा चुनाव के साथ-साथ 11 राज्यों की 59 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों के भी नतीजे आए और इनमें भी भाजपा का शानदार प्रदर्शन और बोल बाला देखने को मिला। भाजपा ने इन 59 में से 41 सीटों पर जीत दर्ज की और छह राज्य ऐसे रहे जहां उसकी लहर देखने को मिली। लेकिन इसी के विपरीत कांग्रेस को सबसे अधिक 31 सीटों का नुकसान हुआ।

सभी प्रदेशों की सभी सीटों के नतीजे।

मध्य प्रदेश की 28 में से 19 सीटें पर बीजेपी का कब्ज़ा –

जिन राज्यों में उपचुनाव हुए, उनमें मध्य प्रदेश में सबसे अधिक 28 सीटें दांव पर थीं। ये सभी सीटें पहले कांग्रेस के पास थीं और उसके विधायकों के इस्तीफे या उनकी मौत की वजह से खाली हुई थीं। नतीजों में भाजपा ने इनमें से 19 सीटों पर जीत दर्ज की, वहीं कांग्रेस महज नौ सीटें जीत पाई। इस तरह भाजपा को 19 सीटों का फायदा तो कांग्रेस को इतनी ही सीटों का नुकसान हुआ।

गुजरात में भाजपा का क्लीन स्वीप।

मध्य प्रदेश के बाद गुजरात में सबसे अधिक 8 विधानसभा सीटें दांव पर थीं और इन सभी आठों सीटों पर जीत दर्ज कर भाजपा ने यहां क्लीन स्वीप किया। मध्य प्रदेश की तरह यहां भी जीतने वाले आठ उम्मीदवारों में से पांच कांग्रेस के पूर्व विधायक थे जो राज्यसभा चुनाव से पहले पाला बदलकर भाजपा में आ गए थे। इसी के साथ 182 सदस्यीय गुजरात विधानसभा में अब कांग्रेस के 65 के मुकाबले भाजपा के 111 विधायक हो गए हैं।

ये भी पढ़े : Bihar Election result 2020: सरकार बनाने तैयार NDA, महागठबंधन 110 सीटों पर अटका, जानें किस तरह हर पल वोटों ने बदला पलड़ा

तेलंगाना और नागालैंड।

भाजपा तेलंगाना में भी एक विधानसभा सीट जीतने में कामयाब रही और उसके प्रत्याशी एम रघुनंदन राव ने मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) की प्रत्याशी सोलिपेता सुजाता को 1,079 वोटों के अंतर से हराया। इस जीत को तेलंगाना में भाजपा के बढ़ते प्रभाव के तौर पर देखा जा रहा है। अन्य राज्यों की बात करें तो नागालैंड की दो सीटों में से एक पर भाजपा की सहयोगी NDPP ने जीत दर्ज की।

उत्तर प्रदेश में सात में छह सीटों पर भाजपा का कब्जा।

उत्तर प्रदेश तीसरा ऐसा बड़ा राज्य रहा जहां विधानसभा उपचुनाव में भाजपा का प्रदर्शन शानदार रहा। राज्य की सात सीटों पर उपचुनाव हुआ था और भाजपा ने इनमें से छह सीटों पर जीत दर्ज की, वहीं एक सीट अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी के खाते में गई।

मणिपुर और कर्नाटक।

अन्य राज्यों की बात करें तो मणिपुर विधानसभा उपचुनाव में भाजपा ने पांच में चार सीटों पर जीत दर्ज की। एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार के खाते में गई। पहले इन पांचों सीटों पर कांग्रेस का कब्जा था और इस उपचुनाव में उसे पांच सीटों का नुकसान हुआ। इसके अलावा कर्नाटक में भी भाजपा कांग्रेस और जनता दल (सेक्युलर) से एक-एक सीट छीनने में कामयाब रही और राज्यों की दोनों सीटों पर जीत दर्ज की।

हरियाणा, झारखण्ड और छत्तीसगढ़।

हरियाणा और छत्तीसगढ़ दोनों में एक-एक सीट पर उपचुनाव हुआ था और इन दोनों ही जगह कांग्रेस ने जीत दर्ज की। जहां हरियाणा वाली सीट पहले भी उसके कब्जे में थी, वहीं छत्तीसगढ़ में उसने अजीत जोगी के परिवार का गढ़ माने जानी वाली सीट पर कब्जा किया है। झारखंड में कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) एक-एक सीट जीतने में कामयाब रहीं।

ओडिसा में बीजेपी को हार।

ओडिशा एकमात्र ऐसा राज्य रहा जहां भाजपा को नुकसान उठाना होगा और मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की बीजू जनता दल (BJD) ने उसके हिस्से की एक सीट पर जीत दर्ज की। राज्य में दो सीटों पर उपचुनाव हुए थे और दोनों पर BJD जीती।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram