Hindi Newsportal

हैवानियत : मेरठ में तीन बोरियों के अंदर कंबल में लपेटकर फेंका गया नवजात, ठण्ड में भी घंटों बाद रहा जिंदा

Representational Image
0 265

किसी भी बच्चे के माँ – बाप अपनी औलाद के लिए दुनिया के दुःख झेलने तैयार होते है। इतना ही नहीं उनका प्रेम इस कदर होता है कि जिसका कोई मोल न हो लेकिन उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक ऐसी घटना आयी है जिसने माँ – बाप के प्रेम को ही प्रश्न चिन्हों में रख दिया है। दरअसल यहां पर एक लावारिस नवजात मिला है। नवजात सीमेंट की तीन खाली बोरियों के अंदर भरकर फेंका गया था। झाड़ियों के बीच से बच्चे के रोने की आवाज सुनकर स्थानीय लोगों ने नवजात को बचाया। हैरानी वाली बात यह है कि कंबल और तीन बोरियों के अंदर लिपटे रहने के बावजूद नवजात जीवित है। उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

नवजात की आवाज़ सुन कर हुआ संदेह।

यह घटना है मेरठ के थाना परतापुर के शताब्दी नगर की। यहाँ देर रात किसी ने झाड़ियों से बच्चे के रोने की आवाज सुनी तो लोगों ने ढूंढना शुरू किया। वहां एक बोरी पड़ी हुई थी। बोरी निकाली गई। जब उसे खोला गया तो एक और बोरी बंधी हुई थी। इसके बाद तीसरी बोरी में कंबल में लिपटा नवजात पड़ा था। लोगों ने तुरंत पुलिस को इसकी जानकारी दी। दिल को झकजोर देने वाली बात ये है कि नवजात ठंड से ठिठुरा हुआ था।

ये भी पढ़े : बीते 24 घंटों में कोरोना के 37,975 नए मामले और 480 मौत दर्ज, अब कुल मामले बढ़कर हुए 91.77 लाख

सीसीटवी फुटेज खंगाल रही पुलिस।

इस घटना के बाद डॉक्टरों का कहना है कि नवजात प्री-मेच्योर है। उसकी नार भी नहीं काटी गई थी। नवजात को देखकर साफ पता चल रहा था कि उसका जन्म कुछ ही देर पहले हुआ था। पुलिस ने इलाके के सीसीटीवी फुटेज खंगालने शुरू कर दिए हैं ताकि पता चल सके कि बच्चे को झाड़ियों में किसने और कब फेंका।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram