Hindi Newsportal

लॉकडाउन में दूसरों की मदद करने वाले बनारसियों से मोदी ने किया संवाद, “हर हर महादेव” से की शुरुवात,कबीर के दोहे से दिया उदहारण

0 146

कोरोना वायरस महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के निवासियों और सामाजिक संस्थाओं ने जरूरतमंदों की मदद की खूब मदद की थी. इसी के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र के ऐसे ही लोगों से बातचीत की। इनसे बातचीत कर पीएम मोदी अपने अनुभव और उनके द्वारा लॉकडाउन के दौरान किए गए विभिन्न सामाजिक कार्यों और प्रयासों से रूबरू हुए।

स्वयंसेवी संस्थाओं (NGO) और उनके प्रतिनिधियों से चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन की शुरुआत हर हर महादेव से की. प्रधानमंत्री ने कहा- ‘हर-हर महादेव !! काशी के पुण्य धरती के आप सब पुण्यात्मा लोगन के प्रणाम हौ.’ उन्होंने कहा कि ‘ये भगवान शंकर का ही आशीर्वाद है कि कोरोना के इस संकट काल में भी हमारी काशी उम्मीद से भरी हुई है, उत्साह से भरी हुई है. ये सही है कि लोग बाबा विश्वनाथ धाम नहीं जा पा रहे? ये सही है कि मानस मंदिर, दुर्गाकुंड, संकटमोचन में सावन का मेला नहीं लग पा रहा है.’ लेकिन ये भी सही है कि इस अभूतपूर्व संकट के समय में और मेरी काशी, हमारी काशी ने, इस अभूतपूर्व संकट का जटकर मुकाबला किया है।

गरीबों की सेवा के लिए बनाया है भगवान् ने
पीएम मोदी ने कहा कि आप सभी के लिए, तमाम संगठनों के लिए, हम सभी के लिए ये बहुत सौभाग्य की बात है कि इस बार गरीबों की सेवा का माध्यम भगवान ने हमें बनाया। एक तरह से आप सभी मां अन्नपूर्णा और बाबा विश्वनाथ के दूत बनकर हर ज़रूरतमंद तक पहुंचे।

स्वयंसेवी संस्थाओं की तारीफ
मोदी ने कहा कि कम समय में फूड हेल्पलाइन और कम्यूनिटी किचन का व्यापक नेटवर्क तैयार करना, हेल्पलाइन विकसित करना, डेटा साइंस की मदद लेना, वाराणसी स्मार्ट सिटी के कंट्रोल एंड कमांड सेंटर का भरपूर इस्तेमाल करना, यानि हर स्तर पर सभी ने गरीबों की मदद के लिए आप सभी ने पूरी क्षमता से काम किया।

जब इस बार महामारी आई, तो सभी भारत को लेकर डरे हुए थे।इतनी आबादी, इतनी चुनौतियां, बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स निकल आए थे भारत पर सवाल खड़े करने के लिए। इसमें भी 23-24 करोड़ की आबादी वाले उत्तर प्रदेश को लेकर तो शंकाएं-आशंकाएं और भी ज्यादा थीं, लेकिन आपके सहयोग ने, उत्तर प्रदेश के लोगों के परिश्रम ने, पराक्रम ने सारी आशंकों को ध्वस्त कर दिया।

ये भी पढ़े: उज्जैन के महाकाल मंदिर से पकड़ा गया गैंगस्टर विकास दूबे, देखें वीडियो

कबीर के दोहे से से दिया उदहारण

कबीरदास जी ने कहा है- “सेवक फल मांगे नहीं, सेब करे दिन रात”
सेवा करने वाला सेवा का फल नहीं मांगता, दिन रात निःस्वार्थ भाव से सेवा करता है! दूसरों की निस्वार्थ सेवा के हमारे यही संस्कार हैं, जो इस मुश्किल समय में देशवासियों के काम आ रहें है

अमेरिका से भी दुगनी आबादी का किया भरण पोषण
आज भारत में 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है। इसका बहुत बड़ा लाभ बनारस के भी गरीबों को, श्रमिकों को हो रहा है। आप कल्पना कर सकते हैं कि भारत, अमेरिका से भी दोगुनी आबादी से, एक पैसा लिए बिना उनका भरण-पोषण कर रहा है। साथ ही प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना को नवंबर अंत तक, यानि दीपावली और छठ पूजा तक बढ़ा दिया गया है हमारी कोशिश यही है कि किसी गरीब को त्यौहारों के समय में खाने-पीने की कमी ना हो।

साथ ही पीएम मोदी ने किसानों और युवाओं से अपील करते हुए कहा कि,’ मैं किसानों से, युवा साथियों से भी ये आग्रह करूंगा कि इस प्रकार के व्यवसाय में बढ़चढ़ कर भागीदारी सुनिश्चित करें’। हम सभी के प्रयासों से हमारी काशी भारत के एक बड़े Export Hub के रूप में विकसित होगी

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram