Hindi Newsportal

राष्ट्रीय मतदाता दिवस आज, जानिए क्या है इतिहास, उद्देश्य और इस साल की थीम

फाइल इमेज: वोटिंग
0 162

राष्ट्रीय मतदाता दिवस आज, जानिए क्या है इतिहास, उद्देश्य और इस साल की थीम

 

देश में हर साल आज यानी 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस मौके पर आज भारत निर्वाचन आयोग 13वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस मना रहा है। भारत के सभी संवैधानिक चुनावों को निष्पक्षता से संपन्न कराने के काम व जिम्मेदारी ‘भारत निर्वाचन आयोग ‘ की होती है।

बता दें कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है और किसी भी लोकतांत्रिक देश में मतदाताओं की बहुत अहम भूमिका होती है। देश की सत्ता पर काबिज किसी भी पार्टी की सरकार में एक मतदाता का वोट बहुत ही कीतमी होता है। एक मतदाता अपने इस अमूल्य योगदान से ही देश के विकास में एक बहुमूल्य भागीदार होता है।

भारत में मतदान को लेकर लोगों में कम होते रुझान को देखते हुए मतदान दिवस की शुरुआत की गई थी। आईये जानते हैं क्या है मतदाता दिवस का इतिहास और इसका महत्व

क्या है इसका इतिहास

भारत में चुनाव आयोग की स्थापना 1950 में हुई, जिसके 61वें स्थापना वर्ष यानी 25 जनवरी 2011 से राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाने का फैसला लिया गया था। वर्ष 2011 में तात्कालिक राष्ट्रपति प्रतिभा देवी पाटिल ने पहली बार 25 जनवरी 2011 को देश का प्रथम ‘राष्ट्रीय मतदाता दिवस’ मनाया था। भारत का लोकतंत्र विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र माना जाता है, इसी को देखते हुए राष्ट्रीय मतदान दिवस मनाने का निर्णय लिया गया था।

क्या है इसका उद्देश्य

इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को अपने मतदान के प्रति जागरुक करना और निष्पक्ष होकर मतदान करने को लेकर प्रेरित करना है। सभी 18 साल के हो चुके वयस्क युवकों का नाम मतदाता सूची में जोड़ना और अपने वोट के प्रति उन्हें जागरुक करने के लिए ही राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता है।

इस दिन पात्र मतदाताओं की पहचान की जाती है। यदि किसी भी आयु 18 वर्ष से अधिक हो तो ऐसे युवाओं का नाम मतदाता सूची में शामिल करके उनका निर्वाचक फोटो पहचान पत्र बनाया जाता है। इस दिन मतदाताओं को शपथ भी दिलाई जाती है कि वह मत का प्रयोग कर देश के विकास के लिए लायक प्रतिनिधि का चयन करें।

क्या है इस साल की थीम

गौरतलब है कि, प्रति वर्ष राष्ट्रीय मतदाता दिवस को एक थीम के साथ मनाया जाता है। तो इस साल 2023 के राष्ट्रीय मतदाता दिवस की थीम है ‘वोटिंग बेमिसाल है, मैं अवश्य वोट देता हूं’।