Hindi Newsportal

राजनीति से नहीं लूंगा संन्यास, राहुल के पीएम बनने पर दूंगा समर्थन: देवगौड़ा

0 669

पूर्व प्रधानमंत्री और जेडीएस सुप्रीमो एच. डी. देवगौड़ा ने कहा है कि भाजपा के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी के विपरीत, वे सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने वाले नहीं हैं, और अगर राहुल गांधी देश के प्रधानमंत्री बन जाते हैं, तो वे उनके साथ खड़े रहेंगे.

लोकसभा चुनाव लड़ने के अपने फैसले के बारे में बात करते हुए देवेगौड़ा ने कहा, “मैंने तीन साल पहले घोषणा की थी कि मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा. अब ऐसे हालात हैं जिनमें मुझे चुनाव लड़ने मैदान में आना पड़ा. छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है. मुझे किसी चीज की कोई आकांक्षा नहीं है, लेकिन मैं सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने वाला नहीं हूं.”

जब उनसे सवाल पूछे गए कि क्या वह आडवाणी की तरह सेवानिवृत्त होना चाहते हैं, तो उन्होंने साफ़ मना करते हुए कहा कि वे अपनी पार्टी और कार्यालय की ईमारत को बचाना चाहते हैं.

अपने बेटे और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वामी के देवगौड़ा के सर्वसम्मत उम्मीदवार के रूप में प्रधानमंत्री बनने के ब्यान पर उन्होंने कहा कि, “मैं इस बारे में परेशान नहीं हूं. मेरी चिंता है कि मोदी संसद में आएंगे. मुझमें इतनी हिम्मत है कि प्रधानमंत्री के सामने खुलकर ये कह सकूं. अगर राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनते हैं, तो मैं उनके साथ बैठूंगा. इसके लिए प्रधानमंत्री बनने की ज़रुरत नहीं.”

ALSO READ: बीजेपी की बैठक में साध्वी प्रज्ञा हुई भावुक, पुलिस हिरासत के दिन आए याद

कांग्रेस के प्रति अपनी प्रतिबद्धता के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा,“मैडम सोनिया गांधी ने देवगौड़ा का समर्थन करने का निर्णय लिया है, भले ही हम एक छोटी पार्टी हैं. अब कांग्रेस के साथ आगे बढ़ना मेरी जिम्मेदारी है, हालांकि मैं सहमत हूं कि कुछ राज्यों में गठबंधन का कोई सवाल नहीं है, लेकिन तमिलनाडु में कांग्रेस और डीएमके के बीच और महाराष्ट्र में शरद पवार की पार्टी के साथ गठबंधन है.”

पार्टी के बजाय परिवार को बचाने के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा,“कई नेता जो सामूहिक रूप से मेरे साथ काम करते थे, वे छोड़ चुके हैं. कुछ लोग कांग्रेस में हैं, कुछ भाजपा में. पीढ़ा में होने के बावजूद भी मैंने अपने परिवार के सदस्यों को पार्टी का अध्यक्ष नहीं बनने दिया.”