Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: बुर्का पहने राम मन्दिर का विरोध करती हुई महिलाओं का यह वीडियो है सालों पुराना, जानें पूरा सच

0 727
फैक्ट चेक: बुर्का पहने राम मन्दिर का विरोध करती हुई महिलाओं का यह वीडियो है सालों पुराना, जानें पूरा सच

 

सोशल मीडिया पर बुर्का पहने हुए कुछ महिलाओं का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में महिलाओं को नारे-बाजी करते हुए देखा और सुना जा सकता है। गौर करने वाली बात यह है कि यह बुर्का पहने हुए महिलाएं बाबरी मस्जिद लेकर रहेंगे’, ‘राम मंदिर तोड़ेंगे’ और अल्लाह-हू-अकबर जैसे नारे लगाते हुए सुनाई दे रही हैं।

इसी वीडियो को सोशल मीडिया पर वर्तमान में शेयर कर हिंदी भाषा के कैप्शन में लिखा गया है कि ‘ले के रहेंगे, ले के रहेंगे, बाबरी मस्जिद लेकिन के रहेंगे.. तोड़ेंगे तोड़ेंगे, राम मंदिर तोड़ेंगे, लाठी गोली खायेंगे, नारा ए तकबीर.. राहुल गांधी की मोहब्बत की दुकान हैदराबाद में ऑलरेडी खुल चुकी है… ये है असली भाईचारा का मुजाहिरा

फेसबुक एक वायरल पोस्ट का लिंक यहाँ देखें।

 

फैक्ट चेक:

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में हमने जाना कि वायरल वीडियो हालिया दिनों का नहीं बल्कि साल 2019 के दौरान का है।

वायरल हो रहे वीडियो की सत्यता जानने के लिए हमने गूगल पर बारीकी से खोजना शुरू किया। इस दौरान हमने सबसे पहले वायरल वीडियो को कुछ कीफ्रेम्स में तोड़ा और फिर गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च लिया। हालांकि इस दौरान हमें वीडियो से संबंधित कोई सार्थक परिणाम नहीं मिले।

इसलिए वीडियो की जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने गूगल पर कीफ्रेम के साथ-साथ कुछ संबंधित कीवर्ड्स का भी इस्तेमाल किया जिसके बाद हमें वायरल वीडियो News 21 नामक यूट्यूब चैनल पर मिला जिसे नवंबर 14, 2019 को अपलोड किया गया था।  यहाँ कैप्शन में अंग्रेजी भाषा में जानकारी दी गयी थी कि सैदाबाद थानांतर्गत उजलेशा ईदगाह में पुलिस नाकेबंदी के बीच विशेष नमाज अदा की गई और वहीं पर यह नारे बाजी भी की गयी।

इसके बाद हमने गूगल पर इस तथ्य की जानकारी प्राप्त करने के लिए खोजा कि यह ‘सैदाबाद थानांतर्गत उजलेश ईदगाह’ कहाँ हैं। गूगल पर मिले परिणामों से हमने जाना कि यह तेलंगाना के हैदराबाद में हैं।

इसके बाद हमने उपरोक्त मिली जानकारी की पुष्टि के लिए हमने गूगल पर खोजा। खोज के दौरान हमें SM News Hyderabad के यूट्यूब चैनल पर वायरल वीडियो मिला जिसे नवंबर 14, 2019 को अपलोड किया गया था। वीडियो में बताया गया है कि  वायरल वीडियो उस दौरान का है जब कोर्ट ने अयोध्या के राम मंदिर के हक़ में फैसला सुनाया था।

जिसके बाद हैदराबाद में मुस्लिम महिलाओं ने सैदाबाद थाने के उजलेशा ईदगा में पुलिस नाकाबंदी के बीच विशेष नमाज अदा की और सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और राम मंदिर के विरोध में प्रदर्शन किया था।

 

पड़ताल के दौरान मिले तथ्यों से हमने जाना कि वायरल वीडियो हालिया दिनों का नहीं बल्कि साल 2019 के दौरान का है, जब सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या के राम मंदिर के हक़ में फैसला सुनाया था।