Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: क्या mRNA COVID-19 वैक्सीन मानव डीएनए को बदल सकता है? यहाँ जानें सच

0 188

सोशल मीडिया पर डीएनए और आरएनए के चित्र का एक पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें दावा किया गया है कि mRNA Covid-19 वैक्सीन मानव डीएनए को बदल देगी।

फेसबुक पोस्ट में लिखा है, “कोरोना के लिए नया टीका अपने आप में ही भिन्न होगा। यह एक mRNA टीका है जो आपके डीएनए को सचमुच बदल देगा। यह अपने सिस्टम में आपको लपेट लेगा। आप अनिवार्य रूप से आनुवंशिक रूप से संशोधित मानव बन जाएंगे। ” 

(“The new vaccine for Covid-19 will be the first of its kind EVER. It will be an mRNA vaccine which will literally alter your DNA. It will wrap itself into your system. You will essentially become a genetically modified human.”)

इसी तरह के अन्य पोस्ट आप यहाँ, यहाँ, यहाँ और यहाँ देख सकते है।

फैक्ट चेक :

न्यूज़ मोबाइल ने इस वायरल पोस्ट की जांच की और पाया कि ये भ्रामक है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) (Centres for Disease Control and Prevention (CDC)) के अनुसार, नए एमआरएनए टीके संक्रामक रोगों से सुरक्षा प्रदान करने वाले टीके हैं। इसके अलावा, मैसेंजर आरएनए टीके या एमआरएनए टीके संयुक्त राज्य अमेरिका में उपयोग के लिए अधिकृत पहले COVID-19 टीकों में से कुछ होने की संभावना है।

ये भी पढ़े : फैक्ट चेक: क्या रेलवे अपने 13 लाख कर्मचारियों के ओवरटाइम, यात्रा भत्ते में कटौती करने की बना रहा है योजना? यहाँ जानें

MRNA कोरोना वैक्सीन कैसे काम करती है?

कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के एक लेख के अनुसार, आरएनए टीके एक अलग दृष्टिकोण का उपयोग करते हैं जो उस प्रक्रिया का लाभ उठाते हैं जो कोशिकाएं प्रोटीन बनाने के लिए उपयोग करती हैं। कोशिकाएं डीएनए का उपयोग दूत आरएनए (एमआरएनए) अणुओं को बनाने के लिए करती हैं, जो तब प्रोटीन निर्माण के लिए अनुवादित होते हैं । एक आरएनए वैक्सीन में एक एमआरएनए स्ट्रैंड होता है जो एक बीमारी-विशिष्ट प्रतिजन के लिए कोड होता है। एक बार टीके में एमआरएनए स्ट्रैंड शरीर की कोशिकाओं के अंदर होता है, कोशिकाएं एंटीजन उत्पन्न करने के लिए आनुवंशिक जानकारी का उपयोग करती हैं। यह प्रतिजन तब कोशिका की सतह पर प्रदर्शित होता है, जहां इसे प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा मान्यता प्राप्त है।

हमें अलीला मेडिकल मीडिया द्वारा YouTube पर एक वीडियो भी मिला, जहां हम एक एनिमेटेड वीडियो देख सकते हैं जिसमें बताया गया है कि mRNA COVID-19 टीकाकरण कैसे काम करता है ?

क्या एमआरएनए कोरोना वैक्सीन मानव डीएनए को बदल सकता है?

वैक्सीन एडवोकेट एडवर्ड निरेनबर्ग (Vaccine Advocate Edward Nirenberg) के अनुसार, mRNA कोरोना वैक्सीन मानव डीएनए को प्रभावित नहीं करता है। उन्होंने ये दावा एक ट्वीट में किया था।

एडवर्ड निरेनबर्ग के शोधों के आधार पर, हमें Deplatform Disease पर एक लेख मिला जिसमें दावा किया गया है कि mRNA टीका डीएनए को प्रभावित नहीं करेगा।

इसके अलावा, हमें फेसबुक पर डॉ जेनिफर कॉडले (Dr. Jennifer Caudle) द्वारा पोस्ट किया गया एक वीडियो मिला जो एक बोर्ड-प्रमाणित चिकित्सक है। वीडियो में वह स्पष्ट रूप से कहती है कि mRNA कोरोना वैक्सीन मानव डीएनए को बदल नहीं सकती है।

आगे और जांच करने पर, हमें सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) द्वारा 23 नवंबर, 2020 को प्रकाशित कोरोना mRNA वैक्सीन के बारे में कुछ तथ्य भी मिले, जिसमें दावा किया गया कि mRNA कोरोना वैक्सीन किसी भी तरह से मानव डीएनए को प्रभावित या इंटरैक्ट नहीं करता है।

अंत में, हमने PIB द्वारा 25 नवंबर, 2020 को एक ट्विटर पोस्ट मिला, जिसमें दावा किया गया था कि mRNA COVID-19 वैक्सीन मानव डीएनए में परिवर्तन नहीं करता है और इस तरह के सोशल मीडिया के दावे भ्रामक हैं।

निष्कर्ष में, उपरोक्त जानकारी की मदद से, हम ये दावा कर सकते है कि नई mRNA कोरोना वैक्सीन मानव डीएनए को नहीं बदलता है। इस तरह के जितने भी दावे सोशल मीडिया पर है वो गलत और भ्रामक है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 88268 00707 पर व्हाट्सएप करें।