Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: अरविंद केजरीवाल का ईडी पर कटाक्ष के पुराने बयान को संजय सिंह की गिरफ्तारी से कुछ घंटे पहले का बताकर किया गया शेयर

0 577

दिल्ली शराब नीति मामले में आम आदमी पार्टी नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने 10 अक्टूबर तक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में भेज दिया है।

इसी बीच दिल्ली के मुख्यामंत्री अरविंद केजरीवाल का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमे की वह कथित शराब नीति घोटाले में संजय सिंह को फंसाने में ईडी की संलिप्तता होने की बात कहते दिखाई दे रहे है। लोगो ने इस वीडियो शेयर करते हुए दावा किया कि यह प्रेस कॉन्फ्रेंस सिंह की गिरफ्तारी से कुछ घंटे पहले हुई थी।

एक फेसबुक यूजर ने इसे शेयर करते हुए लिखा, “सुबह संजय सिंह के डर से ED की पैंट गीली हो जाती है”- केजरीवाल शाम को ED गीली पैंट में #संजयसिंह को अपनी पैंट सुखाने ले गई।”

फेसबुक के वायरल पोस्ट का लिंक यहाँ देखें

इसे फेसबुक और ट्विटर पर काफी शेयर किया गया।

फैक्ट चेक

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में हमने जाना कि वायरल दावा भ्रामक है। दरअसल वीडियो पुराना है और इस अभी का बता कर शेयर किया गया।

इंटरनेट पर वायरल हो रहे वीडियो के साथ शेयर किए गए दावे की सत्यता जानने के लिए हमने पड़ताल की। हमने सबसे पहले वायरल वीडियो को कुछ कीफ्रेम्स में तोड़ा और गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च टूल के माध्यम से खोजना शुरू किया। इस दौरान हमें वायरल वीडियो आम आदमी पार्टी दिल्ली के फेसबुक पेज पर मिला जिसे कि 8 मई को अपलोड किया गया था। दिल्ली के मुख्यमंत्री द्वारा बस सीटो के आरक्षण को लेकर एक नई योजना के बारे में विवरण देने के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई गई थी। योजना की प्रस्तुति के बाद, वहां पत्रकारों ने कथित शराब नीति घोटाले की जांच के बारे में सवाल पूछा, जिसपर कि केजरीवाल ने वायरल हो रहा बयान दिया।

इस वीडियो को आम आदमी पार्टी के आधिकारिक यूट्यूब हैंडल पर भी 8 मई को शेयर किया गया था। प्रेस द्वारा शराब नीति घोटाले पर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए वो कहते है, “ईडी ने आरोप पत्र दाखिल किया कि जिसका नाम संजय सिंह ने रखा है। जेबी संजय सिंह से धमकी दी कि मैं तुम्हारे ऊपर मुकद्दमा करूंगा तो कहते हैं गलती हो गई जी गलती से संजय सिंह का नाम आ गया। गलती से अनुराग ठाकुर का नाम नहीं आया..गलती से संबित पात्रा का नाम नहीं आया। तो गलती से थोड़े आया, प्रधान मंत्री के कार्यालय ने बोला कि संजय सिंह का नाम डालो, उन्हें संजय सिंह का नाम डाल दिया। इनको ये भरोसा नहीं था कि संजय सिंह ईडी को ही धमाका देंगे।”

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक इसी मामले में पहले के आरोपपत्र में, ईडी ने दिल्ली के पूर्व उत्पाद शुल्क आयुक्त राहुल सिंह के बजाय अनजाने में उनके खिलाफ चार संदर्भों में से एक में संजय सिंह का नाम शामिल कर लिया था। एजेंसी ने इस त्रुटि को सुधारने के लिए एक याचिका दायर की थी और इसके लिया माफ़ी भी मांगी थी।

पड़ताल के दौरान उपरोक्त मिले तथ्यों से हमने जाना कि वायरल वीडियो छह महीने पुराना और संजय सिंह के गिरफ़्तारी से पहले का है।