Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: अमेरिका में हुए प्रो-खालिस्तान प्रोटेस्ट का पुराना वीडियो किसानों के विरोध प्रदर्शन के रूप में किया जा रहा साझा

0 284

खालिस्तान समर्थक नारे लगाने वाले सिख पुरुषों का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और इसे किसानों के विरोध के साथ जोड़ा जा रहा है। यह दावा किया जा रहा है कि वीडियो चल रहे किसानों के विरोध और अलगाववादी खालिस्तान आंदोलन के बीच संबंध को दर्शाता है।

“इस वीडियो को देखकर आपको समझ आ जायेगा कि किसान आंदोलन और खालिस्तान मूवमेंट में क्या कनेक्शन है और ये आंदोलन कहाँ से संचालित हो रहा है,” पोस्ट के कैप्शन में लिखा गया है.

इसी प्रकार के अन्य पोस्ट आप यहाँ, यहाँ, यहाँ, और यहाँ देख सकते है।

फैक्ट चेक

समाचार मोबाइल ने उपरोक्त पोस्ट की जाँच की और पाया कि यह पुरानी, झूठी और भ्रामक है।

हमने नारों को ध्यान से सुना, जहां सिख पुरुषों को “खालिस्तान जिंदाबाद” के नारे लगाते हुए सुना जा सकता है और फिर कीवर्ड सर्च की मदद से हमें वही वीडियो मिला, जिसे 22 जून, 2018 को फेसबुक पर साझा किया गया था।

ये भी पढ़े: फैक्ट चेक: किसान प्रदर्शन के मद्देनज़र निहंग सिख रैली का ये पुराना वीडियो किया जा रहा है साझा

इसके अलावा, अन्य सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं ने भी 2018 में यही वीडियो साझा किया, जिसका स्पष्ट अर्थ है कि ये वीडियो पुराना है और इसका चल रहे किसानों के विरोध कोई लेना देना नहीं है।

जब हमने वीडियो को ध्यान से देखा, तो हमें पीछे इमारत पर लिखा “क्रैमाइन” मिला। हमने तब Google मैप पर “Charmaine” सर्च किया और पाया ये अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में है।

इसके अलावा, हमने आगे की पुष्टि के लिए सड़क दृश्य के साथ वीडियो की तुलना की और इसे सैन फ्रांसिस्को का पाया।

इसलिए, उपरोक्त जानकारी की मदद से, यह स्पष्ट है कि सैन फ्रांसिस्को से रैली का एक पुराना वीडियो चल रहे किसानों के विरोध के साथ गलत तरीके से जोड़ा जा रहा है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 11 7127 9799 पर व्हाट्सएप करें।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram