Hindi Newsportal

देखें : बदायूं मामले में NCW सदस्य चंद्रमुखी ने दिया अजीबोगरीब बयान, कहा – अगर महिला शाम को नहीं जाती बाहर तो न होती घटना

NCW Member - ChandraMukhi
0 256

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में झकझोर देने वाले गैंगरेप और हत्या जैसी वारदात के पीड़ित परिवार से आज राष्ट्रीय महिला आयोग (National Commission for Women) की सदस्य चंद्रमुखी बदायूं मिलने पहुंची थी। यहां उन्होंने परिवार वालों से बातचीत की और घटना की बारे में जानकारी ली। लेकिन इस बीच उन्होंने मदद की बात तो की मगर एक ऐसा बयान दे दिया जिसकी शायद कोई कल्पना भी नहीं कर सकता।

क्या कहा चंद्रमुखी ने ?

पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचीं राष्ट्रीय महिला आयोग (National Commission for Women) की सदस्य चंद्रमुखी ने कहा किअगर महिला शाम को अकेले बाहर नहीं जाती तो ये घटना नहीं हुई होती। चंद्रमुखी ने कहा कि किसी के प्रभाव में महिला को कहीं नहीं जाना चाहिये और शाम को तो बिल्कुल नहीं।

देवी ने ये भी कहा कि, “किसी महिला को किसी के प्रभाव में बेसमय बाहर नहीं जाना चाहिए। मुझे लगता है कि अगर वह शाम को बाहर नहीं गई होती, या उसके साथ परिवार का कोई सदस्य होता, तो इसे रोका जा सकता था।” देवी ने यह भी कहा कि वह घटना में पुलिस की भूमिका से संतुष्ट नहीं थीं। उन्होंने अपने दौरे के बाद कहा, “अगर पुलिस ने मामले में तेज़ी दिखाई होती, तो शायद वे पीड़िता को बचा सकते थे.”।

ये भी पढ़े : शिक्षा मंत्री निशंक का ऐलान, 3 जुलाई को होगी जेईई एडवांस्ड परीक्षा, 75% एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया भी खत्म

आयोग की चेयरपर्सन ने दी सफाई।

बता दे विवाद शुरू होने के बाद राष्ट्रीय महिला आयोग की चेयरपर्सन रेखा शर्मा ने ट्वीट कर सफाई दी। शर्मा ने कहा- नहीं, मैं इसका समर्थन नहीं करती। मुझे नहीं पता कि कैसे और क्यों आयोग की सदस्य ने ये कहा लेकिन किसी भी महिला को अपनी मर्जी से कभी भी और कहीं भी जाने का पूरा अधिकार है। जगहों को महिलाओं के लिए सुरक्षित रखना समाज और राज्य की जिम्मेदारी है।

बदायूं में की थी बर्बरता की सारी हदें पार।

बता दे ये सामूहिक दुष्कर्म की ये घटना तब हुई जब 3 जनवरी की शाम को 50 वर्षीय महिला पूजा-अर्चना के लिए मंदिर गई थी। उस दौरान वहां मौजूद महंत सत्यनारायण, उनका चेला वेदराम और ड्राइवर जसपाल ने महिला के साथ गैंगरेप किया और उसके बाद हत्या कर शव को पीड़िता के घर के सामने फेंककर फरार हो गए। इतना ही नहीं सामूहिक दुष्कर्म के बाद आरोपियों ने महिला के प्राइवेट पार्ट्स में रोड दाल दी। उसकी पसली और पैर दोनों तोड़ दिए। बर्बरता का आलम ये था कि महिला की मौत ज़्यादा खून बहने की वजह से हो गई थी।

इसके बाद परिजनों ने जब इसकी जानकारी दी तो पुलिस ने महिला की कुएं में गिरने से मौत होने की बात कहकर गैंगरेप की घटना को झुठला दिया। अब इधर पुलिस की कार्रवाई में अबतक दो की गिरफ्तारी की गई है। वहीं, मुख्य आरोपी महंत अभी भी फरार है। पुलिस उसकी सरगर्मी से तलाश कर रही है। यही नहीं उस पर पचास हजार का इनाम भी घोषित किया गया है।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram