Hindi Newsportal

अस्पताल में भीड़ का ये वायरल वीडियो नहीं है दिल्ली और बेंगलुरु का – जानें सच

0 388

सोशल मीडिया पर एक वीडियो बहुत तेज़ी से वायरल किया जा रहा है जिसमे अस्पताल में एक छोटी सी जगह पर काफी भीड़ देखी जा सकती है और भीड़ ज़्यादा होने कि वजह से लोग एकदम पास – पास बैठे नज़र आ रहे है । वीडियो में दावा किया जा रहा है कि वीडियो दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल का है।

कुछ लोगों ने यह भी दावा किया कि वीडियो बेंगलुरु के विक्टोरिया अस्पताल का है।

देखिये ग्राउंड फ्लोर की OPD के रूम नंबर 5 में कितना रश है। यहाँ मरीज़ों की संख्या को देखिये , ये मरीज़ों की संख्या यहाँ के अस्पताल प्रशासन और डॉक्टरों के साथ – साथ मरीज़ों के लिए भी बड़ा खतरा है। वीडियो बनाने वाले व्यक्ति दावा करता है कि वो डॉ राणा सिंह है और वीडियो में वो ये सारी बातें कहता हुआ सुनाई देता है।

It is Victoria hospital, Bangalore

Saif Adds यांनी वर पोस्ट केले शनिवार, १८ जुलै, २०२०

Situation in Delhi RML hospital…. worst days are ahead ☹️…. stay home stay safe💪

Rohith Karnati यांनी वर पोस्ट केले शुक्रवार, १७ जुलै, २०२०

फैक्ट चेक –

न्यूज़ मोबाइल ने इस वीडियो का फैक्ट चेक किया और पाया कि ये वीडियो गलत है।

हमने वीडियो के कीफ़्रेम निकाले और उन्हें रिवर्स इमेज सर्च के माध्यम से सर्च किया। सर्च ने हमें फेसबुक और यूट्यूब के कई पोस्ट पर डायरेक्ट किया जिसमे ये दावा है कि वीडियो पटना का है ,और सर्च करने पर हमे 17 जुलाई, 2020 को आईबी टाइम्स द्वारा प्रकाशित एक मीडिया रिपोर्ट मिली।

ये भी पढ़े : क्या बिहार का सत्तरघाट ब्रिज उदघाटन के केवल एक महीने के बाद टूटा?- जानें सच

हालांकि, एक पोस्ट में, वीडियो बनाने वाले डॉ राणा सिंह ने स्पष्ट किया कि वीडियो महावीर कैंसर संस्थान (एमसीएस) का है।

उन्होंने टिप्पणी की, “हाँ यह मैं हूँ डॉ राणा सिंह। (महावीर कैंसर संस्थान के चिकित्सा विज्ञान विभाग में चिकित्सा अधिकारी ) .. मैंने ये वीडियो इसीलिए बनाया क्युकी मैं यहाँ के उच्च अधिकारियों को इस अनियंत्रित भीड़ के बारे में बताना चाहता हूँ, ताकि वो इस पर जल्द से जल्द एक्शन ले। यह भीड़ हमारे अस्पताल के सभी डॉक्टरों, नर्सों और कर्मचारियों के लिए एक बड़ा खतरा है । .. थैंक्यू फॉर शेयरिंग इट .. (डॉ राणा सिंह) MCS, पटना। ”

आपको बता दे कि न्यूज़ मोबाइल स्वतंत्र रूप से डॉ राणा सिंह के पास भी एक बयान के लिए पहुंच गया है और जैसे ही हमें उनकी प्रतिक्रिया मिलेगी हम इस स्टोरी को अपडेट करेंगे। इस बीच, बेंगलुरु शहर के पुलिस कमिश्नर भास्कर राव ने भी स्पष्ट किया है कि वीडियो बैंगलोर का नहीं है।

क्राइम ब्रांच ने भी मामले का संज्ञान लेते हुए उस आदमी को तुरंत गिरफ्तार किया जो विक्टोरिया अस्पताल में पैनिक के झूठे दावों के साथ गलत वीडियो वायरल कर रहा था।

सारी रिपोर्ट्स के बाद हम ये दावा कर सकते है कि ये वीडियो दिल्ली और बेंगलुरु का नहीं है बल्कि पटना का है और गलत दावों के साथ शेयर किया जा रहा है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 88268 00707 पर व्हाट्सएप करें।