Hindi Newsportal

भारत का पहला प्राइवेट रॉकेट ‘Vikram S’ आज लांच करेगा ISRO

0 83

भारत का पहला प्राइवेट रॉकेट ‘Vikram S’ आज लांच करेगा ISRO

आज शुक्रवार यानी 18 नवंबर को देश का पहला प्राइवेट रॉकेट अंतरिक्ष में दम भरेगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) आज भारत का पहला प्राइवेट रॉकेट Vikram-S को लांच करेगा। यह लॉन्चिंग आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा प्रक्षेपण केंद्र से होगी। जानकारी के मुताबिक ISRO शुक्रवार सुबह 11 बज कर 30 मिनट पर अंतरिक्ष स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस की ओर से विकसित रॉकेट को लॉन्च करेगा। विक्रम एस रॉकेट अपने साथ तीन पेलोड्स भी ले जाएगा जिसमें एक विदेशी ग्राहक का है। स्काईरूट एयरोस्पेस के इस पहले मिशन को ‘प्रारंभ’ नाम दिया गया है, जिसमें तीन उपभोक्ता पेलोड होंगे।

पहले इसे 15 नवंबर को लॉन्च करने की योजना थी। विक्रम-एस सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्चिंग के बाद ये 81 किलोमीटर की ऊंचाई पर पहुंचेगा।  भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक और दिवंगत वैज्ञानिक विक्रम साराभाई के नाम पर रॉकेट को नाम दिया गया है। इस रॉकेट का वजन करीब 545 किग्रा है, जो समंदर में गिरने से पहले धरती की सतह से 101 किमी की ऊंचाई को हासिल करेगा। इसमें कुल 300 सेकेंड का समय लगेगा। रॉकेट के लॉन्चिंग में आम ईंधन के बजाय LNG यानी लिक्विड नेचुरल गैस और लिक्विड ऑक्सीजन का इस्तेमाल किया जा रहा है। ये ईंधन किफायती होने के साथ साथ प्रदूषण मुक्त भी है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 30 अक्टूबर को अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में इसे लेकर कई बातें कही थी। उन्‍होंने कहा था कि निजी क्षेत्र के लिए अंतरिक्ष के खुलने से कई युवा स्टार्ट-अप इस क्षेत्र में काम करना चाह रहे हैं। पीएम मोदी ने विक्रम-एस को देश की अंतरिक्ष में उड़ान को क्रांतिकारी बदलाव करार दिया है।

इस मिशन को स्काईरूट के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर माना जाता है, क्योंकि यह उन 80 प्रतिशत तकनीकों को मान्यता दिलाने में मदद करेगा, जिनका उपयोग विक्रम-1 कक्षीय वाहन में किया जाएगा, जिसे अगले साल प्रक्षेपित करने की योजना है। स्काईरूट कंपनी और इसरो के बीच रॉकेट लांचिंग को लेकर एमओयू साइन हुआ है। कंपनी का कहना है कि विक्रम एस के टेस्ट इस सीरीज में बनने वाले दूसरे रॉकेट को एक प्रामाणिकता मिलेगी।