Hindi Newsportal

बिहार की राजनीति में नया प्लॉट ट्विस्ट।

File image
0 358

देश में चल रही मौजूदा हालातों ने हर चीज़ों को एक नया स्वरुप दे दिया हैं, और इसी क्रम में इस बार आने वाला बिहार विधानसभा चुनाव का शंखनाद भी बीजेपी ने विर्चुअलि रैली के द्वारा फूंक दिया है,मगर राजनीति में जब तक बवाल न हो तो राजनीती में वो स्वाद कहां। ऐसा ही एक हड़कंप बिहार की राजनीति में तब आ गया जब बिहार के अखबारों में छपे एक विज्ञापन ने राजनीतिक गलियारों में दस्तक दे दी।

दरअसल बिहार के अखबारों में एक विज्ञापन आया, विज्ञापन में  एक युवती ने बिहार में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव  से पहले खुद को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया। यह युवती कोई और नहीं बल्कि जेडीयू नेता विनोद चौधरी की बेटी पुष्पम प्रिया चौधरी है। पुष्पम के ट्विटर डीटेल के अनुसार उन्होंने इंग्लैंड के द इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज विश्वविद्यालय से एमए इन डेवलपमेंट स्टडीज और लंदन स्कूल ऑफ इकोनोमिक्स एंड पॉलीटिकल साइंस से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में एमए किया है। इन्होंने विज्ञापन में दावा किया की बिहार मुख्यमंत्री पद की दूसरी दावेदार ये खुद है।

पुष्पम प्रिय चौधरी ने अपनी एक नयी पार्टी का भी निर्माण किया है जिसका नाम रखा गया है “प्लुरलस” और  इनके पार्टी के नाम से ज़्यादा रोचक है इनकी पार्टी का चिन्ह। लाल और सफ़ेद रंग में एक ऐसा घोडा जिसके पंख लगे हुए है। इस चिन्ह को लेकर पुष्पम प्रिय चौधरी का कहना है की बिहार अपने सपनों की उड़ान के साथ तैयार है। जिस तरह पंखो के साथ ये दिव्य घोड़ा है उसी प्रकार बिहार भी हर क्षेत्र में बड़ी बड़ी ऊचाईयों  को छूयेगा। साथ ही उन्होंने ये भी दावा किया की अगर वो बिहार की मुख्यमंत्री बनती है तो 2025 तक बिहार विकसित राज्य बनेगा।  यही नहीं वर्ष 2030 तक बिहार विकास के मामले में यूरोपीय देशों जैसा हो जाएगा।

गौर करने वाली बात ये है की बिहार में पहली बार एक ऐसी पार्टी का गठन हुआ है जिसका नाम ही ना केवल अंग्रेजी  में है बल्कि उसका पार्टी चिन्ह भी आम जनता के लिए अनोखा है। बिहार का ये नया चेहरा बिहार की राजनीति में एक नए मुद्दे को अपना चुनावी मुद्दा बनाना चाह रहा है, जिसमे बिहार के लिए पॉलिसी मेकिंग ही सबकुछ हैं।

इनके सोशल मीडिया पर ट्वीट्स और पोस्ट देखकर यही ज़ाहिर होता आया है की इनके लिए पॉलिसी मेकिंग ही चुनावी मुद्दा है और चुनाव जीतने का तंत्र भी।  यूरोपियन राजनीत से प्रेरित होकर पुष्पम प्रिया चौधरी एक नयी और अनोखी राजनितिक पारी के लिए खुद को तैयार बताती है, और साथ ही खुद को बिहार के मुख्यमंत्री पद का मजबूत दावेदार भी बताती है, मगर देखने वाली बात ये है की क्या बिहार की जनता अपनी सियासत में एक नए युवा चेहरे को मौका देने के लिए तैयार है ?