Hindi Newsportal

अर्नब गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने किया गिरफ्तार, गृह मंत्री अमित शाह ने कड़ी निंदा कर कहा, ये हमला दिलाता है आपातकाल की याद

0 308

महाराष्ट्र की मुंबई पुलिस ने आज तड़के सुबह रिपब्लिक टीवी के एडिटर अर्नब गोस्वामी के खिलाफ एक्शन लिया है। मुंबई में पुलिस ने आज रिपब्लिक के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को उनके घर से पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस गिरफ्तारी के मद्देनज़र अर्नब ने मुंबई पुलिस पर अपने और अपने परिवार के साथ मारपीट करने का आरोप भी लगाया है।

देखें किस तरह अर्नब को आज मुंबई पुलिस ने किया गिरफ्तार।

इस घटना के बाद अब रिपब्लिक ने जारी किया बयान.

इस हमले के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर महारष्ट्र सरकार की कड़ी निंदा कर कहा कांग्रेस और उसके सहयोगियों ने एक बार फिर लोकतंत्र को शर्मसार किया। रिपब्लिक टीवी और अर्नब गोस्वामी के खिलाफ राज्य की सत्ता का दुरुपयोग व्यक्तिगत स्वतंत्रता और लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला है। यह आपातकाल की याद दिलाता है।

इस घटना के बाद केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावेडकर ने अर्नब पर पुलिस की इस करवाई की निंदा की है और कहा है कि ये दिन आपातकाल के दिनों जैसा है। प्रकाश जावड़ेकर ने अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर कड़ी निंदा करते हुए ट्वीट किया और लिखा, ‘हम महाराष्ट्र में प्रेस की आजादी पर हमले की निंदा करते हैं। यह प्रेस के साथ बर्ताव का तरीका नहीं है। यह हमें आपातकाल के उन दिनों की याद दिलाता है जब प्रेस के साथ इस तरह से व्यवहार किया गया था।’

उन्होंने एक और ट्वीट किया जो हिन्दी में है, उसमें लिखा, ‘मुंबई में प्रेस-पत्रकारिता पर जो हमला हुआ है वह निंदनीय है। यह इमरजेंसी की तरह ही महाराष्ट्र सरकार की कार्यवाही है। हम इसकी भर्त्सना करते हैं।’

धर्मेंद्र प्रधान ने भी की निंदा।

अर्नब गोस्वामी का दावा सास-ससुर, बेटे और पत्नी के साथ भी हुई मारपीट।

इस घटना में अर्नब गोस्वामी ने आरोप लगाया है कि मुंबई पुलिस ने उनके सास-ससुर, बेटे और पत्नी के साथ मारपीट की है। इसके अलावा, रिपब्लिक टीवी ने अपने वीडियो फुटेज में दावा किया है कि मुंबई पुलिस ने अर्नब के साथ भी बदसलूकी की है।

स्मृति ईरानी ने कहा- चुप रहना दमन का समर्थन करना है।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने इस कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘फ्री प्रेस में जो लोग आज अर्नब के समर्थन में नहीं खड़े हैं, वे फासीवाद के समर्थन में हैं। आप उसे पसंद नहीं कर सकते हैं, आप उसे स्वीकार नहीं कर सकते हैं, आप उसके अस्तित्व को तुच्छ समझ सकते हैं, लेकिन अगर आप चुप रहते हैं तो आप दमन का समर्थन करते हैं। अगली बार आप पर कार्रवाई हुई तो कौन बोलेगा?’

कंगना ने भी साधा महारष्ट्र सरकार पर निशाना।

कंगना रनौट ने इस पूरे मामले में महारष्ट्र सरकार को जमकर आकड़े हाथ लिया है। उन्होंने कहा – ‘मैं महाराष्ट्र सरकार से पूछना चाहती हूं कि आपने आज अर्नब गोस्वामी को उनके घर में जाकर मारा है…कितने घर तोड़ेंगे आप?…कितनी आवाजें बंद करेंगे आप?…एक आवाज बंद करेंगे, कई उठ जाएंगी…कोई पैंग्विन कहता है तो गुस्सा आता है? क्यों गुस्सा आता है, जब पप्पू सेना कहते हैं? सोनिया सेना कहते हैं तो गुस्सा आता है क्या?’

देवेंद्र फडणवीस ने कहा- यह लोकतंत्र पर धब्बा है।

संजय राउत ने दी सफाई।

इस मामले पर संजय राउत का कहना है कि महाराष्ट्र की सरकार कभी बदले की भावना से कार्रवाई नहीं करती, महाराष्ट्र में कानून का राज है। पुलिस को जांच में कोई सबूत हाथ लगा होगा तो पुलिस किसी पर भी कार्रवाई कर सकती है।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram