Hindi Newsportal

सोनिया गांधी की अध्यक्षता में संसद सत्र को लेकर रणनीति पर चर्चा के लिए कांग्रेस की बैठक जारी

File Image
0 402

कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी आज, संसद के मानसून सत्र के लिए एक दृष्टिकोण तैयार करने के लिए अपनी पार्टी के संसद रणनीति समूह की बैठक की अध्यक्षता कर रही हैं.

कांग्रेस संसदीय रणनीति समूह की बैठक के लिए कांग्रेस नेता एके एंटनी, जयराम रमेश, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, पी चिदंबरम, अधीर रंजन चौधरी और के सुरेश यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर मौजूद हैं.

पार्टी के स्त्रोतों ने बताया कि बैठक में, विपक्षी दलों के बीच बेहतर तालमेल सुनिश्चित करने के लिए एक साझा एजेंडा पर चर्चा करने की संभावना है.

एएनआई से बात करते हुए, वरिष्ठ कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने पहले सत्र के दौरान अपनी पार्टी की दिशा को लेकर कुछ बाते कही थीं. उन्होंने कहा था, “सरकार को अध्यादेश संस्कृति को समाप्त करना चाहिए। उसे संसदीय प्रक्रिया का सम्मान करना चाहिए और महत्वपूर्ण विधेयकों को सदन में चर्चा से पहले संसद समितियों को भेजा जाना चाहिए.”

उपरोक्त स्त्रोत ने यह भी बताया कि लोकसभा में पार्टी के नेता की नियुक्ति भी बैठक में की जा सकती है. हालांकि, इसकी घोषणा लोकसभा अध्यक्ष के चुनाव के बाद की जाएगी। सोनिया गांधी के पास निचले सदन में पार्टी का नेता नियुक्त करने का अधिकार है.

कांग्रेस को चुनाव के बाद संसद के पहले सत्र के लिए रणनीति बनाने की जरूरत है। केंद्रीय बजट के रूप में यह सत्र अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है और मुस्लिम महिलाओं (विवाह पर अधिकारों का संरक्षण) विधेयक सहित कुछ प्रमुख विधेयक इस सत्र में प्रस्तुत किए जाएंगे.

लोकसभा में सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी होने के नाते, कांग्रेस की जिम्मेदारी है कि वह विभिन्न मुद्दों पर सरकार को किनारे करने के लिए विपक्षी दलों के बीच समन्वय स्थापित करे. हालाँकि, कांग्रेस पार्टी के पास जितनी सीटें हैं वह विपक्ष के नेता को चुनने के लिए आवश्यक सीट संख्या से कम है.

हाल ही में संपन्न आम चुनावों में कांग्रेस ने 52 सीटें जीतीं है, जबकि किसी भी पार्टी के लिए विपक्ष की भूमिका में आने के लिए कम से कम 55 सीटों की आवश्यकता है.