Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: कांग्रेस नेता कमलनाथ के वीडियो को एडिट कर किया गया वायरल, जानें पूरा सच

0 1,223
फैक्ट चेक: कांग्रेस नेता कमलनाथ के वीडियो को एडिट कर किया गया वायरल, जानें पूरा सच

 

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस नेता कमलनाथ को एक समुदाय विशेष के लोगों के साथ बैठक करते हुए देखा जा सकता है। वीडियो में गौर किया जा सकता है कि कांग्रेस नेता बैठक में शामिल लोगों से कथित तौर पर धारा 370 हटाने व मस्जिदों की जमीने वापस दिलवाने की बात करते सुनाई दे रहे हैं। वीडियो में आगे कमलनाथ कहते हैं कि आप लोग बस कांग्रेस साथ अपना साथ बनाए रखिए। सोशल मीडिया पर इस वीडियो को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि यह बातें कांग्रेस नेता कमलनाथ द्वारा समुदाय विशेष के लोगों के साथ गुप्त तौर पर की जा रही थी।

फेसबुक पर वायरल वीडियो को शेयर कर हिंदी भाषा के कैप्शन में लिखा गया है किकमलनाथ की गुप्त बातें.. क्या कह रहा है … मस्जिद वाली जमीन भी आपको दिलवा देंगे और 370 पर भी सोचा जाएगा क्या ऐसी बातों में चमचों की सहमति है❓ थू थू थू “ 

फेसबुक के वायरल पोस्ट का लिंक यहाँ देखें।

फैक्ट चेक: 

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में हमने जाना कि वायरल वीडियो एडिट है, इसमें कोई सच्चाई नहीं है।

वायरल वीडियो देखने पर हमें इसके एडिटेड होने की आशंका हुई। जिसके बाद हमने अपनी पड़ताल शुरू की। इस दौरान हमने सबसे पहले वायरल वीडियो को कुछ कीफ्रेम्स में तोड़ा और फिर गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च टूल के माध्यम से खोजना शुरू कर दिया। खोज के दौरान हमें दैनिक जागरण की वेबसाइट पर नवंबर 15, 2018 पर छपे एक लेख में मिला।

 

प्राप्त लेख के मुताबिक कांग्रेस नेता कमलनाथ ने वायरल वीडियो में समुदाय विशेष के लोगों से कह रहे हैं कि आरएसएस केवल दो लाइन का संदेश देती है जिसमें हिंदू को वोट देने लिए मोदी को वोट देने का कहती है और मुस्लिम को वोट देना है तो कांग्रेस को वोट दो। मतदान के दिन तक सतर्क रहें। चुनाव के बाद हम निपट लेंगे। लेख में आगे बताया गया है कि कमलनाथ के इस वीडियो पर भाजपा ने आपत्ति भी जताई थी।

उपरोक्त प्राप्त लेख की जानकारी की पुष्टि के लिए हमने गूगल पर बारीकी से खोजना शुरू किया। खोज के दौरान हमें News 18 के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर मिला। जिसे नवंबर 15, 2018 को अपलोड किया गया था। बता दें कि प्राप्त वीडियो में दैनिक जागरण वाली वेबसाइट के लेख में दी गयी जानकारी की पुष्टि की गयी।

 

वायरल वीडियो की पड़ताल के दौरान उपरोक्त मिले तथ्यों से हमने जाना कि वायरल वीडियो हालिया दिनों का नहीं बल्कि साल 2018 के दौरान का है। साथ ही हालिया वायरल वीडियो को एडिट कर दिया गया है। दरअसल, साल 2018 में मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस नेता कमलनाथ ने समुदाय विशेष के लोगों के साथ एक मीटिंग की जहां उन्होंने आरएसएस की रण नीति को लेकर बातें की थी, इसी वीडियो को सोशल मीडिया पर एडिट कर शेयर किया जा रहा है।