Hindi Newsportal

उत्तरकाशी सुरंग हादसा: सुरंग में फंसे 41 मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकालने की कोशिश जारी

0 295

नई दिल्ली: उत्तराखंड की सिल्कयारा सुरंग में फंसे 41 मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकालने की कोशिश लगातार जारी है. बता दें कि यह सभी मजदूर पिछले 10 दिनों से सुरंग के अंदर फंसे हुए हैं. वहीं रेस्क्यू में लगी एजेंसियां का कहना है कि अगले 40 घंटे काफी अहम हैं. एक बड़ी सफलता उस समय हाथ लगी जब रेस्क्यू टीम बड़ी मात्रा में ठोस भोजन और पानी भेजने के लिए 57 मीटर लंबा, 6 इंच चौड़ा पाइप डालने में कामयाब रही.

 

उत्तरकाशी सुरंग हादसे में BRO कार्यकर्ता सरोज मांझी ने बताया, ” कुल 37 श्रमिक सड़क निर्माण के लिए पहाड़ी पर जा रहे हैं. जहां तक लक्ष्य था वहां तक सड़क निर्माण का कार्य पूरा कर लिया गया है और मशीनें भी पहुंच गई हैं…”

 

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन ने मंगलवार को कहा कि सुरंग के अंदर पर्याप्त पानी, ऑक्सीजन और रौशनी है. उन्होंने कहा कि ‘उन राज्य प्रशासनों से संपर्क जारी है जहां से मजदूर आते हैं. हमारा ध्यान केंद्रित प्रयास ऑगर मशीन के माध्यम से हॉरिजॉन्टल ड्रिलिंग पर है.’

 

बता दें कि ड्रिलिंग मशीन की मदद से अगले दो दिनों के भीतर सभी श्रमिकों को बाहर निकाला जा सकता है, लेकिन अगर इससे काम नहीं बना तो रेस्क्यू ऑपरेशन 15 दिनों तक भी खिंच सकता है, यह जानकारी एक शीर्ष सरकारी ने दी है. 12 नवंबर को उत्तराखंड में 4.5 किलोमीटर लंबी सुरंग के ढहने की वजह से सभी मजदूर भीतर फंसे हुए है. उन्हें स्टील पाइप के जरिए खाना, पानी और दवाएं भेजी जा रही हैं.

 

उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने ट्वीट किया कि, सिलक्यारा टनल में फँसे श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकालने हेतु राहत एवं बचाव कार्य तेजी से किया जा रहा है. भारतीय वायुसेना के विमानों द्वारा विशेष उपकरण भी मंगवाए गए हैं. सिलक्यारा में जारी रेस्क्यू ऑपरेशन में एनडीआरएफ, आईटीबीपी, बीआरओ, अन्तर्राष्ट्रीय विशेषज्ञ और भारत सरकार की अन्य तकनीकी एजेंसियों को प्रदेश सरकार पूर्ण सहयोग प्रदान कर रही है. टनल में फंसे श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकालना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है. आदरणीय प्रधानमंत्री श्री पीएम मोदी जी स्वयं भी बचाव कार्यों पर लगातार नज़र बनाये हुए हैं.

 

उन्होंने आगे लिखा की, आदरणीय प्रधानमंत्री श्री पीएम मोदी जी ने आज फोन पर बात कर सिलक्यारा, उत्तरकाशी में निर्माणाधीन टनल में फंसे श्रमिकों के लिए भोजन, दवाइयां, अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति एवं उन्हें सकुशल बाहर निकालने हेतु चल रहे बचाव कार्यों की जानकारी ली. आदरणीय प्रधानमंत्री जी को केंद्रीय एजेंसियों, अंतर्राष्ट्रीय एक्सपर्ट्स एवं प्रदेश प्रशासन के परस्पर समन्वय के साथ संचालित बचाव कार्यों से अवगत कराया. इस दौरान उन्हें गत 24 घंटों में हुई सकारात्मक प्रगति एवं श्रमिकों और उनके परिजनों की बातचीत से बढ़े मनोबल की भी जानकारी दी.

 

माननीय प्रधानमंत्री जी का इस कठिन परिस्थिति से निपटने हेतु निरंतर मार्गदर्शन प्राप्त हो रहा है जो हम सभी को पूरी ताकत से श्रमिक भाइयों को शीघ्र और सुरक्षित बाहर निकालने के लिए नित नई उर्जा प्रदान करता है.