Hindi Newsportal

अलीगढ़ की एक बुजुर्ग दंपत्ति ने अयोध्या के राम मंदिर को दान करने के लिए बनाया 400 किलों का ताला और 30 किलो की चाबी

इमेज सोर्स: सोशल मीडिया
0 569

अलीगढ़ की एक बुजुर्ग दंपत्ति ने अयोध्या के राम मंदिर को दान करने के लिए बनाया 400 किलों का ताला और 30 किलो की चाबी

अलीगढ़ में एक बुजुर्ग दंपत्ति ने अयोध्या में राम मंदिर को दान करने के लिए दुनिया का सबसे बड़ा ताला और चाभी बनाया है। दरअसल, अलीगढ़ अपने हस्तनिर्मित तालों के लिए देश और दुनिया में प्रसिद्ध है। अलीगढ़ की इस विरासत को बरक़रार रखते हुए ताला-चाभी बनाने वाले एक बुजुर्ग दंपत्ति ने एक ऐसा ताला बनाया है, जिसका वजन करीब 400 किलोग्राम है और उस ताले की चाभी का वजन 30 किलोग्राम।

भगवान राम के एक उत्साही भक्त, सत्य प्रकाश शर्मा ने “दुनिया का सबसे बड़ा हस्तनिर्मित ताला” तैयार करने के लिए महीनों तक मेहनत की, जिसे वह इस साल के अंत में राम मंदिर अधिकारियों को उपहार में देने की योजना बना रहे हैं।

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अधिकारियों ने कहा कि उन्हें बड़ी संख्या में भक्तों से प्रसाद मिल रहा है और उन्हें यह देखना होगा कि ताले का उपयोग कहां किया जा सकता है।

सत्य प्रकाश शर्मा ने कहा कि उनका परिवार एक सदी से भी अधिक समय से हस्तनिर्मित ताले बनाने में लगा हुआ है, जबकि वह 45 वर्षों से अधिक समय से अलीगढ़ में तालों को आकर देने और चमकाने का काम कर रहे हैं।

शर्मा ने कहा, उन्होंने राम मंदिर को ध्यान में रखते हुए चार फीट की चाबी से विशाल ताला बनाया, जो 10 फीट ऊंचा, 4.5 फीट चौड़ा और 9.5 इंच मोटा है। इस ताले को इस साल की शुरुआत में वार्षिक अलीगढ़ प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया गया था।

उन्होंने ने कहा, यह मेरे लिए “प्यार का परिश्रम” था जबकि मेरी पत्नी रुक्मणी ने भी इस कठिन उद्यम में मेरी मदद की। उन्होंने बताया कि पहले उन्होंने इसे 6 फीट लंबा और 3 फीट चौड़ा ताला बनाया था, लेकिन कुछ लोगों ने बड़ा ताला बनाने का सुझाव दिया, इसलिए हमने इस पर काम करना शुरू कर दिया।” रुक्मणी ने कहा, ताले को अंतिम रूप दिया जा रहा है।