Hindi Newsportal

COVID-19 LIVE | बीते 24 घंटे में सामने आए 3.43 मामले, चार हजार लोगों की मौत भी दर्ज; ऑस्ट्रेलिया से भारत पहुंचे 1056 वेंटिलेटर

File Image
0 68,143

देश में कोरोना वायरस का कहर जारी है, हालांकि बीते 24 घंटों में दर्ज मामलों में थड़ी राहत ज़रूर है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण के 3,43,144 मामले सामने आए हैं। वहीं 1 दिन में 4000 मौतें भी रिकॉर्ड हुई हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में एक दिन में 3,43,144 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि होने के बाद कोविड-19 के मामले बढ़कर 2,40,46,809 हो गए हैं जबकि 4,000 और लोगों की मौत होने के बाद मृतक संख्या बढ़कर 2,62,317 हो गई है।

एक्टिव केसेस की बात करे तो आंकड़ों के मुताबिक इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 37,04,893 हो गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 15.41 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 83.50 प्रतिशत हो गई है। आंकड़ों के मुताबिक, बीमारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या 2,00,79,599 हो गई है जबकि संक्रमण से मृत्यु दर 1.09 फीसदी दर्ज की गई है।

कर्नाटक: 45+ लोगों को वैक्सीन लगाना ही प्राथमिकता।

कर्नाटक में वैक्सीन की उपलब्धता के आधार पर ही टीकाकरण किया जा रहा है। बीबीएमपी के कमिश्नर गौरव गुप्ता ने बताया कि वैक्सीन की उपलब्धता को देखते हुए 45+ की उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाना हमारी प्राथमिकता है।

कोविड-19 से गौतम बुद्ध नगर में 10 लोगों की मौत।

उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर में शुक्रवार सुबह तक कोरोना वायरस के कारण 10 और लोगों की मौत हो गई और 676 लोग संक्रमित पाए गए हैं जबकि 937 लोगों को स्वस्थ होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है। जनपद में कोविड-19 की वजह से मरने वाले लोगों की कुल संख्या 371 हो गई है और संक्रमण के मामले 58,200 पर पहुंच गए हैं। जिला निगरानी अधिकारी डॉक्टर सुनील दोहरे ने बताया कि शुक्रवार सुबह तक कोरोना वायरस के 676 मामले सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि अब भी 7,500 मरीजों का कोविड-19 के लिए उपचार चल रहा है।

दुर्गापुर से चेन्नई पहुंची ऑक्सीजन एक्सप्रेस की पहली ट्रेन।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर कहा कि तमिलनाडु में कोरोना से पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए दुर्गापुर से ऑक्सीजन एक्सप्रेस की पहली ट्रेन चेन्नई पहुंच गई है।

ऑस्ट्रेलिया से भारत पहुंचे 1056 वेंटिलेटर।

ऑस्ट्रेलिया से भारत आने वाली मदद जारी है। ऑस्ट्रेलिया की राजधानी सिडनी से 1056 वेंटिलेटर और 60 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर लेकर चला विमान भारत पहुंच गया है। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मोरिसन ने इसकी जानकारी दी।

वैक्सीन की दोनों खुराकों के बीच 12-18 हफ्ते के अंतर पर डॉ. फाउची ने रखी अपनी राय।

एएनआई को इंटरव्यू देते हुए अमेरिका के वरिष्ठ चिकित्सक डॉक्टर फाउची ने कहा कि भारत बायोटेक की ओर से बनी कोवैक्सीन को लेकर मेरे पास कुछ ज्यादा सूचना नहीं है लेकिन स्पूतनिक वी ज्यादा असरदार है। स्पूतनिक वी कोरोना के खिलाफ 90 फीसदी प्रभावी है। वहीं 12-18 हफ्ते के बीच अंतर पर डॉ. फाउची का कहना है कि अगर वैक्सीन की कमी है तो टीके की पहली खुराक और दूसरी खुराक के बीच 12-18 हफ्ते का अंतर रखने का फैसला जायज है। ताकि कम से कम ज्यादा से ज्यादा लोगों को कोरोना की पहली खुराक तो लग जाए।

यूरोपियन संघ से भी मदद जारी।

विदेश मंत्रालय ने जानकारी दी कि यूरोपियन संघ से आने वाली मदद जारी है। जर्मनी से 223 वेंटिलेटर, 25 हजार रेमडेसिविर के इंजेक्शन और दूसरे मेडिकल उपकरण आए तो नीदरलैंड से रेमडेसिविर की 30 हजार वायल और पुर्तगाल से रेमडेसिविर की 5500 वायल भारत पहुंची।

WHO: धार्मिक और राजनीतिक समारोह भी भारत में बढ़ते मामलों की वजह।

इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि भारत में बढ़ते मामलों के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें राजनीतिक और धार्मिक कार्यक्रम भी शामिल हैं। WHO के अनुसार कई धार्मिक और राजनीतिक समारोह की वजह से सोशल मिक्सिंग में इजाफा हुआ है। WHO की वीकली एपिडेमियोलॉजिकल अपडेट में ये बात कही गई है।

दुनिया में संक्रमित।

दुनियाभर में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। बीते दिन दुनिया में 6 लाख 11 हजार 96 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई। इस दौरान 10,586 लोगों की मौत भी हुई। सबसे ज्यादा हालात भारत के खराब हैं। यहां बीते दिन 3.29 लाख कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई। यह आंकड़ा बीते दिन अमेरिका और ब्राजील में मिले नए केसों से 10 गुना से भी ज्यादा है। अमेरिका में सोमवार को 30,152 और ब्राजील में 29,240 नए संक्रमितों की पहचान हुई है।

अमेरिका में 12 से 15 साल के टीनएजर्स के लिए वैक्सीन को इजाजत।

अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (US-FDA) ने सोमवार को 12 से 15 साल के बच्चों के लिए फाइजर-बायोएनटेक (Pfizer-BioNTecch) की कोरोना वैक्सीन को इजाजत दे दी। अब तक यह वैक्सीन 16 साल से ज्यादा उम्र वालों को लगाई जा रही थी। इससे पहले कनाडा बच्चों की इस पहली वैक्सीन को इजाजत दे चुका है। ऐसा करने वाला दुनिया का पहला देश है।

WHO ने इंडियन वैरिएंट को बताया घातक।

भारत में कोविड-19 का जो नया वैरिएंट मिला है, उसे वैज्ञानिकों ने B.1.617 नाम दिया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी WHO ने भारत में पाए गए इस वैरिएंट पर चिंता जाहिर करते हुए इसे घातक बताया है। WHO की वैज्ञानिक मारिया वेन कर्कोव ने सोमवार को कहा- हमारी जानकारी के मुताबिक, नया वैरिएंट तेजी से फैलता है। ऐसा लगता है कि ये वैक्सीन का भी ज्यादा मुकाबला करने की कोशिश करता है।

LIVE UPDATES: