Hindi Newsportal

लोकसभा से पहले पीएम मोदी ने ANI को दिया इंटरव्यू, कहा- “मेरे पास बड़ी योजनाएं हैं…किसी को डरने की ज़रूरत नहीं है…”

0 425

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यानी सोमवार न्यूज़एजेंसी ANI को इंटरव्यू दिया। इस दौरान इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “मेरे पास बड़ी योजनाएं हैं…किसी को डरने की ज़रूरत नहीं है। मेरे निर्णय किसी को डराने, दबाने के लिए नहीं हैं। वे देश के समग्र विकास के लिए हैं।”

 

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इंटरव्यू के दौरान कई मुद्दों पर जिक्र किया। इस दौरान उन्होंने एक राष्ट्र, एक चुनाव’ पर कहा कि, “…एक राष्ट्र एक चुनाव हमारी प्रतिबद्धता है…कई लोगों ने समिति को अपने सुझाव दिए हैं। बहुत सकारात्मक और नवोन्मेषी सुझाव आए हैं। अगर हम इस रिपोर्ट को लागू कर पाए तो देश को बहुत फायदा होगा।”

उन्होंने कहा कि “एक राष्ट्र एक चुनाव हमारी प्रतिबद्धता है…कई लोगों ने समिति को अपने सुझाव दिए हैं। बहुत सकारात्मक और नवोन्मेषी सुझाव आए हैं। अगर हम इस रिपोर्ट को लागू कर पाए तो देश को बहुत फायदा होगा।”

प्रधानमंत्री मोदी ने ANI से कहा, “मेरे पास बड़ी योजनाएं हैं…किसी को डरने की ज़रूरत नहीं है। मेरे निर्णय किसी को डराने, दबाने के लिए नहीं हैं। वे देश के समग्र विकास के लिए हैं।”

पीएम मोदी ने डीएमके की हालिया ‘सनातन विरोधी’ टिप्पणी और उस पर जनता के आक्रोश पर कहा कि , “कांग्रेस से पूछा जाना चाहिए कि सनातन के खिलाफ इतना जहर उगलने वाले लोगों के साथ बैठना उनकी क्या मजबूरी है?…कांग्रेस की मानसिकता में ये कौन सी विकृति है…”

उन्होंने कहा कि तथाकथित ‘उत्तर-दक्षिण विभाजन’ पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ” भारत को टुकड़ों में देखना भारत के प्रति नासमझी का परिणाम है। अगर आप हिंदुस्तान में देखें प्रभु राम के नाम से जुड़े हुए गांव सबसे ज्यादा कहां है? तो वह तमिलनाडु में है। अब आप इसको कैसे अलग कर सकते हैं। विविधता हमारी ताकत है, हमें इसका जश्न मनाना चाहिए…”

कांग्रेस के आरोप पर कि ‘400 पार से संविधान रद्द हो जाएगा’ पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “जो व्यक्ति UN में जाकर दुनिया की सबसे पुरानी भाषा तमिल भाषा का गुणगान करता है,किस आधार पर उस व्यक्ति पर आप ऐसे आरोप कैसे लगा सकते हैं?….समस्या उनमें (विपक्ष) है वे देश को एक ही सांचे में ढालना चाहते हैं। हम विविधता की पूजा करते हैं…हम इसका जश्न मनाते हैं…”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “मेरा लक्ष्य अपने अगले कार्यकाल में देश में विकास की गति और पैमाने को बढ़ाना है।”

राम मंदिर के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “इस मुद्दे का राजनीतिकरण किसने किया?…वोट बैंक की राजनीति को मज़बूत करने के लिए इस मुद्दे को हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया गया और बार-बार इसे भड़काया गया। जब यह मामला अदालत में चल रहा था तब कोशिश की गई कि फैसला ना आए…उनके(विपक्ष) लिए यह एक राजनीतिक हथियार था…अब राम मंदिर बन गया तो उनके हाथ से यह मुद्दा ही चला गया है…”