Hindi Newsportal

राजधानी दिल्ली एक बार फिर से प्रदूषण की चपेट में, वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘बहुत खराब’ श्रेणी में, 309 मापी गयी AQI

फाइल इमेज
0 173

राजधानी दिल्ली एक बार फिर से प्रदूषण की चपेट में, वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘बहुत खराब’ श्रेणी में, 309 मापी गयी AQI

 

आज यानी दो जनवरी को सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) द्वारा जारी किए गए डाटा के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) ‘बहुत खराब’ श्रेणी में पहुंच गया। दिल्ली विश्वविद्यालय क्षेत्र में एक्यूआई 314 जबकि आईआईटी दिल्ली में यह 176 था। हवाई अड्डा (टी3) क्षेत्र में वायु गुणवत्ता 309 दर्ज की गई। वहीं दिल्ली में लोधी रोड के पास एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 239 मापी गयी।

इसके के साथ वायु गुणवत्ता एवं मौसम पूर्वानुमान एवं अनुसंधान प्रणाली (सफर) के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र से सटे गुरुग्राम जिले में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 353 रहा जबकि नोएडा में यह 351 रहा।

वायु गुणवत्ता सूचकांक 0 से 100 तक अच्छा माना जाता है, जबकि 100 से 200 तक यह मध्यम, 200 से 300 तक खराब, और 300 से 400 तक इसे बहुत खराब और 400 से 500 या उससे ऊपर के स्तर को गंभीर माना जाता है।

बता दें कि बीते शुक्रवार को दिल्ली में प्रदूषण को देखते हुए वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (CAQM) ने प्रदूषण को कम करने के लिए एक बार फिर से दिल्ली एनसीआर में ग्रेप (ग्रेडेड रिस्पॉस एक्शन प्लान) का तीसरा चरण लागू कर कर दिया है।

इसके तहत खनन पर भी बैन लगाया गया है। ईंट भट्ठे पर भी बैन लगा दिया गया है। दिल्ली सरकार ने इसे लागू भी कर दिया है। वहीं, बीएस-3 पेट्रोल (BS-3 Petrol Vehicle) और बीएस-4 डीजल (BS-4 Deisel Vehicle) पर बैन (एनसीआर में प्रतिबंध) लगाने का फैसला राज्य सरकार पर छोड़ दिया गया है।