Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: संसदीय क्षेत्र वायनाड में हुई तोड़फोड़ पर राहुल गांधी द्वारा दिए गए बयान को राजस्थान के कन्हैया लाल की हत्या से जोड़कर किया जा रहा है वायरल

0 997

फैक्ट चेक: संसदीय क्षेत्र वायनाड में हुई तोड़फोड़ पर राहुल गांधी द्वारा दिए गए बयान को राजस्थान के कन्हैया लाल की हत्या से जोड़कर किया जा रहा है वायरल

 

राजस्थान में हो रहे विधानसभा चुनाव के बीच सोशल मीडिया के कई माध्यमों पर राहुल गांधी का एक वीडियो क्लिप तेजी से वायरल हो रहा है। कांग्रेस नेता व वायनाड सांसद राहुल गांधी के इस वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि उन्होंने राजस्थान में हुए कन्हैयालाल हत्याकांड के हत्यारों को माफ करने की बात की है।

फसबूक के वायरल पोस्ट में लिखा गया है कि, “राजस्थान के कन्हैया लाल के हत्यारो के प्रति मेरे मन में कोई गुस्सा नहीं है, वो मासूम भटके हुए बच्चे हैं उन्हे माफ कर देना चाहिए ___ कांग्रेस पार्टी प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार राहुल गांधी।

फसबूक के वायरल पोस्ट का लिंक यहाँ देखें।

फैक्ट चेक:

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में हमने जाना कि वायरल वीडियो गलत संदर्भ में वायरल हो रहा है।

नूपुर शर्मा द्वारा पिछले साल पैगंबर मुहम्मद पर दिए गए बयान के बाद देशभर में भूचाल खड़ा हो गया था। इसके बाद बीजेपी ने उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया। इसी बीच उनका समर्थन करने पर राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल टेलर को 28 जून 2022 को दो चरमपंथी मुस्लिमों ने मौत के घाट उतार दिया। इस मामले में नेशनक इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) ने जांच की और चार्जशीट पेश की थी, जिसमें 11 लोगों को आरोपी माना है। इसी घटना से जोड़कर राहुल गांधी का उक्त बयान वाला वीडियो शेयर किया था। बता दें कि इन दिनों राजस्थान में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं।

पड़ताल के दौरान हमने सबसे पहले वीडियो को कुछ कीफ्रेम्स में तोड़ा। फिर एक कीफ्रेम को कुछ कीवर्ड की सहायता से गूगल रिवर्स सर्च किया। इस तरह हमें न्यूज 24 के फेसबुक पेज पर साल 2022 में प्रकाशित एक वीडियो रिपोर्ट मिली।

इस रिपोर्ट में राहुल गांधी के वायरल हो रहे वीडियो के विजुअल मौजूद हैं। दरअसल राहुल गांधी ने यह बयान वायनाड में उनके दफ्तर पर किए गए हमले में शामिल कुछ युवकों के लिया दिया था। युवकों को लेकर राहुल ने कहा था कि “यह वायनाड के लोगों का दफ्तर है। यह दुर्भाग्यपूर्ण हैं। मेरे मन में बच्चों के प्रति कोई गुस्सा या शत्रुता नहीं है”

बारीकी से खोजने पर हमें राहुल गांधी द्वारा दिए जा रहे बयान का पूरा वीडियो इकोनॉमिक्स टाइम्स के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर मिला जिसे जुलाई 01, 2022 को  अपलोड किया गया था।

 

पड़ताल के दौरान हमें हिंसा से जुड़ा एक वीडियो भी मिला, जिसे न्यूज़ एजेंसी ANI द्वारा जून 24, 2022 को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर पोस्ट किया गया था।

इस प्रकार हमारी पड़ताल में यह स्पष्ट हो जाता है कि राहुल गांधी ने कन्हैयालाल को लेकर वायरल वीडियो वाला बयान नहीं दिया था। भ्रामक दावा वायरल किया जा रहा है।