Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: राजस्थान सीएम अशोक गहलोत की रैली में नहीं लगे ‘मोदी-मोदी’ के नारे, एडिटेड वीडियो हुआ वायरल

0 1,750
फैक्ट चेक: राजस्थान सीएम अशोक गहलोत की रैली में नहीं लगे ‘मोदी-मोदी’ के नारे, एडिटेड वीडियो हुआ वायरल

 

सोशल मीडिया पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की रैली का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एक मंच पर खड़े हुए दिखाई दे रहे हैं। वीडियो में इस बीच ‘मोदी-मोदी’ के नारे भी सुनाई दे रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि मोदी-मोदी के यह नारे रैली में उपस्थित जनता ने लगाए। बता दें कि वीडियो में अशोक गहलोत को इसी दौरान मंच से माइक पर यह कहते हुए भी सुना जा सकता है कि “आप किसके समर्थन में आए हो” .

फेसबुक पर वायरल वीडियो शेयर कर हिंदी भाषा के कैप्शन में लिखा गया है कि, “ये लो साहब राजस्थान का चुनाव परिणाम आ गया, गहलोत जी पैकिंग शुरू करो”

फेसबुक के वायरल पोस्ट का लिंक यहाँ देखें।

 

फैक्ट चेक:

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में हमने जाना कि वायरल वीडियो एडिटेड है, असलियत में अशोक गहलोत की रैली में मोदी-मोदी के नारे नहीं लगाए गए।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो को देखने पर हमें इसके एडिटेड होने की आशंका हुई। जिसके बाद हमने अपनी पड़ताल आरम्भ की। हमने सबसे पहले यह जानने का प्रयास किया कि वायरल वीडियो सीएम अशोक गहलोत की कौन सी रैली के दौरान का है। इसके लिए हमने वीडियो को गौर से देखा इस दौरान हमने पाया कि वीडियो में रैली के स्थान नाम छापा गया है। जिसके मुताबिक रैली का वीडियो मालपुरा टोंक का है।

इसी के आधार पर हमने गूगल पर कुछ संबंधित कीवर्ड्स से खोजना शुरू किया। जिसके बाद हमें वायरल वीडियो Ashok Gehlot के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर मिला जिसे नवंबर 22, 2023 को अपलोड किया गया था। इस दौरान प्राप्त वीडियो में 2 मिनट 16 सेकंड पर वायरल वीडियो वाला हिस्सा मिला, जहां सीएम अशोक गहलोत रैली में उपस्थित जनता से चुप रहने को कहते हैं। इस दौरान गहलोत को यह कहते हुए सुना जा सकता है, “बंद करो, कौन लोग आए हैं, आप उनके समर्थन में आएंगे या किस लिए?”  इसके बाद कांग्रेस उम्मीदवार घासी लाल चौधरी को अपने होठों पर उंगली रखकर भीड़ को शांत रहने का निर्देश देते देखा जा सकता है।

बता दें कि वीडियो में गहलोत को भीड़ से चुप रहने को इसलिए बोलते हुए क्योंकि उनके द्वारा मचाए जा रहे शोर से उनका भाषण बीच में बाधित हो रहा था। गौरतलब है कि अपने भाषण के दौरान गहलोत को कई महिला-समर्थक घोषणाएं करते हुए सुना जा सकता है और इसी दौरान भीड़ को शोर मचाते हुए भी सुना जा सकता जिस गहलोत उन्हें चुप रहने को बोलते हैं।

पड़ताल के दौरान उपरोक्त मिले तथ्यों से हमने जाना कि वीडियो में भीड़ द्वारा मोदी-मोदी के नारे नहीं लगाए गए। ओरिजिनल वीडियो में कहीं भी मोदी समर्थक नारे को नहीं सुना जा सकता है। इससे यह साफ़ होता है कि वायरल वीडियो में मोदी मोदी के नारे एडिट कर डाले गए हैं।