Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: कांग्रेस नेता शशि थरूर ने केरल की रैली में हमास का समर्थन किया? झूठा दावा हुआ शेयर

0 759

इजराइल-हमास में जंग को तीन हफ्ते से ज्यादा का समय हो गया है। इजराइल लगातार गाज़ा पट्टी पर मिसाइली हमले कर रहा है। इस जंग में कई प्रमुख लोग फलीस्तीन का समर्थन कर रहे है। इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमे केरल में हो रही ‘फिलिस्तीन समर्थक रैली’ को दिखाया गया है। इसे शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि तिरुवनंतपुरम के सांसद और कांग्रेस नेता शशि थरूर ने फिलिस्तीनी आतंकवादी समूह, हमास को अपना समर्थन दिखाया है।

एक फेसबुक यूजर ने इसे शेयर करते हुए अंग्रेजी लिखा, “जगह का अंदाज़ा लगाओ? यह पैक्सटन या फ़िलिस्तीन नहीं है 🙆‍♂️ यह उनके ईश्वर का अपना देश घेराला है 😱 मुस्लिम लीग और कांग्रेस नेता @ShashiTharoor द्वारा हमास आतंकवादियों के समर्थन में केरल में विशाल रैली 🙆‍♂️😱 केरल के हिंदू आपके भीतर के शत्रुओं को जानते हैं।”

फेसबुक के वायरल पोस्ट का लिंक यहाँ देखें।

इसे फेसबुक और ट्विटर  पर शेयर किया गया।

फैक्ट चेक

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में हमने जाना कि वायरल दावा झूठा है। दरअसल वीडियो फ़िलिस्तीन समर्थक की है जहाँ थरूर ने हमास के साथ-साथ इज़राइल के कार्यों की निंदा की थी।

वायरल वीडियो के साथ शेयर हो रहे दावे की सच्चाई जानने के लिए हमने पड़ताल की। सबसे पहले हमने कीवर्ड सर्च टूल के माध्यम से खोजना शरू किया। खोज के दौरान हमें इंडियन एक्सप्रेस की 27 अक्टूबर की रिपोर्ट मिली जिसमे थरूर की रैली में शामिल होने वाली बात कही गयी थी। रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस की सहयोगी इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) ने 26 अक्टूबर को कोझिकोड में फिलिस्तीन समर्थक रैली का आयोजन किया था। हालाँकि शशि थरूर इस रैली में चीफ गेस्ट के तौर पर शामिल हुए थे पर, उन्होंने हमास को ‘आतंकवादी’ समूह बताया था। उन्होंने यह भी कहा कि आतंकवादी गतिविधियां इजराइल और हमास दोनों तरफ से हुईं है।

आगे पड़ताल में हमने IUML के आधिकारिक सोशल मीडिया पेजों की जांच की और उनके इंस्टाग्राम अकाउंट पर हमे यह वायरल वीडियो मिला। इसके अलावा IUML ने अपनी रैली की लाइव स्ट्रीम अपने आधिकारिक फेसबुक और यूट्यूब पेज पर भी अपलोड की गयी थी।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by IUML Kerala State (@iumlkeralastate)

इंडिया टुडे, जागरण इंग्लिश की रिपोर्ट्स के अनुसार, थरूर को अगली फ़िलिस्तीन समर्थक रैली से हटा दिया गया था क्योंकि उन्हें इज़राइल पर हमास के हमले की निंदा करने वाली अपनी टिप्पणी की थी जिसके लिए आलोचना का सामना करना पड़ा था।