Hindi Newsportal

फैक्ट चेक: अमरोहा में भाजपा कार्यकर्ताओं की आपस में हुई झड़प का वीडियो सोशल मीडिया मीडिया पर भ्रामक दावे के साथ हुआ वायरल

0 368

फैक्ट चेक: अमरोहा में भाजपा कार्यकर्ताओं की आपस में हुई झड़प का वीडियो सोशल मीडिया मीडिया पर भ्रामक दावे के साथ हुआ वायरल, पढ़ें पूरा सच 

 

सोशल मीडिया पर एक झड़प का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। यह वीडियो भाजपा के एक कार्यक्रम का लग रहा है, जहाँ कुछ लोगों आपस में झड़पते हुए दिखाई दे रहे हैं। इस दौरान एक पुलिस कर्मी को बीच बचाव करते हुए देखा जा सकता है। इसी वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर कर दावा किया जा रहा है कि भाजपा की एक प्रेस वार्ता में सवाल पूछने वाले एक पत्रकार को पीटा गया।

फेसबुक के वायरल पोस्ट का लिंक यहाँ देखें।

 

फैक्ट चेक:

 

न्यूज़मोबाइल की पड़ताल में हमने जाना वायरल वीडियो भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच हुई झड़प की घटना का है। इस दौरान कोई भी पत्रकार नहीं पीटा गया।

फेसबुक पर वायरल इस वीडियो के साथ शेयर किए जा रहे दावे की सच्चाई जानने के लिए हमने पड़ताल की। इस दौरान हमने सबसे पहले वायरल वीडियो को कुछ कीफ्रेम्स में तोड़ा और फिर गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च टूल के माध्यम से खोजना शुरू किया। खोज के दौरान हमें KohramLive नामक यूट्यूब चैनल पर वायरल वीडियो मिला। जिसे अप्रैल 16, 2024 को प्रकाशित किया गया था। प्राप्त यूट्यूब चैनल में एंकर द्वारा दी जा रही जानकारी के मुताबिक यह वायरल वीडियो भाजपा नेताओं की आपस में हुई झापड़ का है। वीडियो में आगे जानकारी दी गयी है कि यह घटना अमरोहा जिले के भाजपा कार्यालय की है।

 

उपरोक्त वीडियो में मिली जानकारी की पुष्टि के लिए हमने गूगल पर बारीकी से खोजना शुरू किया। खोज के दौरान हमें आजतक की वेबसाइट पर वायरल वीडियो के मामले एक लेख मिला। जिसे हाल ही अप्रैल 16, 2024 को प्रकाशित किया गया था।

लेख में जानकारी दी गयी है कि अमरोहा के भाजपा जिला कार्यालय में पार्टी के दो नेताओं की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस खत्म होने के बाद झड़प हो गयी। लेख में बताया गया है कि यह प्रेस कॉन्फ्रेंस बीते सोमवार की दोपहर राज्यमंत्री बृजेश सिंह ने संबोधित की थी। बताया गया कि जैसे ही यह कॉन्फ्रेंस खत्म हुई, मंच पर जिला मीडिया प्रभारी रमेश कलाल और जिला उपाध्यक्ष कृष्ण कुमार के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई है और देखते ही देखते दोनों नेता आपस में भिड़ गए।

पड़ताल के दौरान मिले तथ्यों से हमने जाना कि वायरल वीडियो भ्रामक दावे के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है। यह वीडियो असल में अमरोहा जिले के दो भाजपा नेताओं की झड़प का है। इस दौरान किसी पत्रकार की पिटाई नहीं की गयी।