Hindi Newsportal

न्यूज़मोबाइल संपादकों का विश्लेषण: यूपी चुनाव के नतीजे तय करने वाले मुद्दे

0 2,062

उत्तर प्रदेश चुनाव के पहले चरण के लिए राज्य के 11 जिलों की 58 विधानसभा सीटों पर मतदान गुरुवार को शुरू हुआ. इसी के चलते न्यूज़मोबाइल के संपादकों ने उन मुद्दों पर चर्चा की जो उत्तर प्रदेश की भविष्य की राजनीति तय कर सकते हैं।

न्यूज़मोबाइल के संस्थापक और एडिटर इन चीफ सौरभ शुक्ला, सलाहकार संपादक विनय कुमार और कार्यकारी संपादक अनन्या दास गुप्ता के साथ उत्तर प्रदेश चुनावों पर न्यूज़मोबाइल एडिटर विश्लेषण:

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव

विनय कुमार कहते हैं कि, “उत्तर प्रदेश के चुनाव सबसे महत्वपूर्ण हैं। यह भारत का सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है और कहा जाता है की दिल्ली (केंद्र) का रास्ता लखनऊ से होकर गुजरता है। अगर बीजेपी यूपी में बरकरार रही तो 30 साल में पहली बार राज्य में किसी राजनीतिक दल को फिर से चुना जायेगा।”

वैश्विक-कॉर्पोरेट समुदाय पर उत्तर प्रदेश चुनाव का प्रभाव

सौरभ शुक्ला कहते हैं कि वैश्विक-कॉर्पोरेट समुदाय भारतीय राज्य चुनावों में बहुत रुचि है, खासकर उत्तर प्रदेश राज्य में. निवेशक भी बड़ी तस्वीर देख रहे हैं जिसमें यह चुनाव एक स्थिर सरकार दे.

निवेशकों की मानसिकता की बात करते हुए उन्होंने कहा कि वैश्विक समुदाय उन जगहों पर निवेश करना चाहता है जो अपेक्षाकृत स्थिर हो, जहा अच्छी कानून व्यवस्था हो, निवेशकों के अनुकूल माहौल है, और कंपनी और उसके कर्मचारियों के लिए सुरक्षा और सुरक्षा प्रदान करने वाली सरकार हो.

यूपी विधानसभा चुनाव के नतीजे पर किसानों के विरोध का असर

कृषि कानूनों पर विनय कुमार ने कहा कि तीन कृषि कानूनों पर आंदोलन न केवल उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और अन्य राज्यों में एक प्रमुख मुद्दा रहा है। औरइस आंदोलन को लगभग एक साल तक चलने दिया गया। किसानों के साथ कोई बातचीत नहीं हुई।

उन्होंने आगे कहा कि “पीएम को नवंबर में कदम उठाना पड़ता है और घोषणा करनी होती है कि उनकी सरकार ने कृषि कानूनों को निरस्त करने का निर्णय लिया है। लेकिन तब तक किसानों से बात नहीं करने से बीजेपी की छवि खराब हो चुकी थी.”

यूपी चुनाव से पहले विपक्षी एकता

विपक्ष के उभरते गठबंधन के बारे में बात करते हुए सौरभ कहते हैं की, “विपक्ष की एकता विपक्ष की मदद करेगी, खासकर अखिलेश और जयंत को, लेकिन अब भी पीएम नरेंद्र मोदी यूपी में सबसे बड़े शख्सियत बने हुए हैं।”

उनका कहना है कि दूसरी लहर के दौरान COVID-19 से निपटना और इससे होने वाली बेरोजगारी भी इस चुनाव में प्रमुख मुद्दे होंगे। हालांकि, मतदाता राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति जैसी बड़ी तस्वीर देखेंगे। इसके अलावा, बूथ प्रबंधन भी चुनाव में महत्वपूर्ण होगा।

पूरी चर्चा आप यहां देख सकते हैं:

बता दे कि, 403 सदस्यीय उत्तर प्रदेश विधानसभा में सात चरणों में 10 फरवरी, 14, 20, 23, 27, 3 मार्च और 7 को मतदान होना है। मतों की गिनती 10 मार्च को होगी।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram